19 मार्च 2012

मोहब्बत है या तिज़ारत ?

आज वो हमसे अपना हिसाब माँग रहे,
हम तो फ़कीर थे,सब कुछ लुटा दिया ! (१)

हमारी सदा नहीं उन तक  पहुँच रही,
हमने ज़हर का घूँट,जिसका सदा पिया ! (२)

उगते हुए  उजाले के  संग वो हुए ,
छोड़कर कम तेल का,बुझता हुआ दिया !(३)

हम खुश रहेंगे फिर भी हर हाल में,
चाहकर के उनको ,हमने बुरा किया ? (४)

मोहब्बत से हमने  यूँ लिया सबक,
कुछ ने महज़ नफ़े का,सौदा बना लिया !(५)

रुसवाई नहीं मेरी,उनसे नहीं गिला,
बस उसूलों से उनने,ज़रा फ़ासला किया !(६)

61 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ ने बस महफूज सा सौदा बना लिया ? यही न ? :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कब तलक महफूज़ रखेंगे वे दामन अपना,
      कभी तो उतरेंगे ज़मीं पर,छोड़कर सपना !!

      हटाएं
  2. दुनिया का तो दस्तूर यही है जी माट्साब,
    जो कुछ लिया, यहीं से लिया और यहीं दिया!
    भौतिकता के समाज का सच है ये घिनौना,
    अब इतनी छोटी बात पे छोटा न कर जिया!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. माट्साब जाएँ कहाँ,ज़ालिम जहां को छोड़कर,
      आप रहेंगे साथ गर,लेकर बड़ा हिया !!

      हटाएं
  3. हमारी सदा नहीं उन तक पहुँच रही,
    हमने ज़हर का घूँट,जिसका सदा पिया ...

    ये अक्सर होता है दुनिया में ... जिसके लिए आप जीते मरते हैं वो पूछते भी नहीं हैं ... भई सभी शेर लाजवाब हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. उगते हुए उजाले के संग वो हुए ,
    छोड़कर कम तेल का,बुझता हुआ दिया !(३)

    ....आज का सच...बहुत सुंदर और सटीक प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  5. मोहब्बत से हमने यूँ लिया सबक,
    कुछ ने महज़ नफ़े का,सौदा बना लिया !

    वह वाह ! सही कहा है .
    सुन्दर ग़ज़ल .

    उत्तर देंहटाएं
  6. अहा, बेहतरीन गजल..वाह..हर दिन निखार..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. उतर जायेगा कुछ दिनों में यह मौसमी बुखार !!

      हटाएं
  7. बहुत उम्दा - कुछ ने महज़ नफ़े का सौदा बना लिया

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हमने भी तिजारत को ठेंगा दिखा दिया..!

      हटाएं
  8. पकड़ प्रभू की पद्य पर, गजब गद्य गंभीर ।
    दीन मुहब्बत दीन की, मिली पीर दिल चीर ।
    मिली पीर दिल चीर, चाहतें हते हताशा ।
    पर मेरी तकदीर, नहीं है प्रिये बताशा ।
    हुआ उसूलन दूर, बढ़ाया जरा फासला ।
    सको नहीं तुम तूर, कभी इस जनम हौसला ।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तरकश से बस आपके निकले केवल तीर,
      कुंडलिया बनकर गिरे ,असर करे गंभीर !

      हटाएं
  9. उत्तर
    1. आभार और ब्लॉगिंग-जगत में पधारने की बधाई !

      हटाएं
  10. हमको तो गज़ल ने कुछ प्रभावित नहीं किया। वही पुराना रोना रोया गया है। गज़ल से बढ़िया तो कमेंट पर आये आपके उत्तर हैं।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. देवेंद्रजी..आप सही कह रहे हैं,पर नए विषय थोड़ा कठिन लग रहे हैं.कोशिश करूँगा कि अगली बार मिलन के गीत गाऊँ.राजनीति व सामजिक-विषय भी आजमाने की कोशिश करूँगा.

      सादर !

      हटाएं
    2. आज वो हमसे अपना "हिसाब" माँग रहे ?

      हम तो "फ़कीर" थे , सब कुछ लुटा दिया ?


      हमने "ज़हर का घूँट जिसका" सदा पिया ?


      हम "खुश" रहेंगे फिर भी "हर हाल" में ?


      "चाहकर" के उनको ,हमने "बुरा' किया ?

      हटाएं
    3. अली साब,आपके संकेत समझना बड़ी टेढ़ी-खीर है !

      हटाएं
    4. ये तो तब भी फ़कीर और अब भी फ़कीर हैं
      धनवान तो वही हैं बस वही और केवल वही ...
      ता इलाही तूने कैसी कैसी सूरते बनायी हैं :)

      हटाएं
    5. शुक्रिया महाराज...आईना दिखाने के लिए !

      हटाएं
  11. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्पिणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  12. हमारी सदा नहीं उन तक पहुँच रही,
    हमने ज़हर का घूँट,जिसका सदा पिया ! (२)

    न जाने क्यों मुहब्बत में ऐसे घूंट क्यों पीने पड़ते हैं .... खूबसूरत गजल

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह जी वाह!
    हाथ बरसों से अपने खाली थे
    अपना क्या था जो अब गंवाना था

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका यह शेर हमारी बची-खुची 'ग़ज़ल' भी खा गया !!

      आभार !

      हटाएं
  14. उगते सूरज के सब साथी होते हैं , रिवाज़ यही है , मगर हम उनसे निराले ही सही !
    कायदे - कानून के हिसाब से लिखना जटिल और कभी कभी बोझिल भी हो जाता है !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ठीक है पर यह मामला प्रेम में तकलीफदेह होता है !

      हटाएं
  15. रुसवाई नहीं मेरी,उनसे नहीं गिला,
    बस उसूलों से उनने,ज़रा फ़ासला किया

    उसूलों में मूल न हो तो भी फासला हो ही जाता है.
    प्रेम और प्यार का मूल हो,इर्ष्या द्वेष निर्मूल हों,
    तो फासला एक न एक दिन मिट ही जाएगा.

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार,संतोष जी.

    उत्तर देंहटाएं
  16. अभिभूत करती रचना सार्थक प्रयास बधाईयाँ जी

    उत्तर देंहटाएं
  17. आज वो हमसे अपना हिसाब माँग रहे,
    हम तो फ़कीर थे,सब कुछ लुटा दिया !
    .....बहुत ही बेहतरीन पंक्तियाँ बेहतरीन गजल संतोष जी

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सच में अच्छा लगता है सुनकर ऐसा उत्साहवर्धक बयान !

      हटाएं
  18. मोहब्बत से हमने यूँ लिया सबक,
    कुछ ने महज़ नफ़े का,सौदा बना लिया !
    यह सौदेबाजी कभी कभी बहुत भारी पड़ जाती है। ऐसा दिल रखने वाले को क्या सकून आ पाता है?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ...मगर क्षणिक-आनंद की प्राप्ति तो हो ही जाती है !

      हटाएं
  19. बहुत सुन्दर लिखा है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  20. सर जी , आप अपनी रचनाओं में इतनी रवानगी और ताजगी कहाँ से ले आते हैं ! कुछ हमें भी सिखाएं ! बेहतरीन और ताजगी से भरी गजल !

    उत्तर देंहटाएं