16 सितंबर 2013

मोदी बनाम अडवाणी

मोदी के सर ताज है,अडवाणी कंगाल।
खुद का बोया काटते,काहे करें मलाल ?
काहे करें मलाल,बताया जिन्ना सेकुलर।
तिकड़म  सब बेकार, रहे ना हिन्दू कट्टर।
अब काहे रिरियांय,फसल जो पहले बो दी।
कट्टरता का खेत, काटने आए मोदी।।

 

13 टिप्‍पणियां:

  1. मोदी जी की चाल से,अडवाणी जी फेल|
    मजबूरी है क्या करे,वक्त दिखाता खेल|

    RECENT POST : बिखरे स्वर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. कट्टरता का खेत,जोतने आये मोदी...
    बढ़िया सामयिक पंगा !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १७/९/१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहां स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. समय-समय का खेल है अब कैसा मलाल
    फसल कटे तब देखना दोनों होंगे मालामाल

    उत्तर देंहटाएं
  5. राजनीति है बड़ी परायी,
    अपनी पौध, किसी ने खायी।

    उत्तर देंहटाएं

  6. मोदी के सर ताज है,अडवाणी कंगाल।
    खुद का बोया काटते,काहे करें मलाल ?
    काहे करें मलाल,बताया जिन्ना सेकुलर।
    तिकड़म सब बेकार, रहे ना हिन्दू कट्टर।
    अब काहे रिरियांय,फसल जो पहले बो दी।
    कट्टरता का खेत, काटने आए मोदी।।

    बहुत बढ़िया कहा आपने त्रिवेदी संतोषजी -

    गौर इधर भी करें -

    कट्टरता का खेत जलाने आये मोदी ,

    चलता रहा क्या खेल बताने आये मोदी

    उत्तर देंहटाएं
  7. मोदी का देखो मच गया है कितना हल्ला ,

    सावधान रहना तुम लल्ला ,

    बैठे सेकुलर घात लगाए ,

    इनसे बचके रहना लल्ला।

    उत्तर देंहटाएं

  8. समय करे नर क्या करे समय समय की बात ,

    मोदी से जो भी भिड़े जमके खाए मात।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज की बुलेटिन एम. एफ. हुसैन, अनंत पई और ब्लॉग बुलेटिन में आपकी इस पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  10. कितना अच्छा लिखा है आपने।
    बहुत उत्कृष्ट अभिव्यक्ति.हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!
    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |सादर मदन

    http://madan-saxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena.blogspot.in/
    http://madanmohansaxena.blogspot.in/
    http://mmsaxena69.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्राञ्जल - प्रवाह-पूर्ण प्रस्तुति |

    उत्तर देंहटाएं