15 जनवरी 2012

चुनावी क्षणिकाएं !

( कांग्रेस  )

राहुल जी को जल्दी है,
खतम  करनी है रेस,
सीटी बजने से पहले ही
दौड़ गई कांग्रेस !!

( भाजपा )

आओ-आओ
जो भी आओ,
अगड़ा-पिछड़ा ,तगड़ा आओ,
भाई-बिरादर टिकट कटाओ ,
जीत न पाओ,फिर सो जाओ !!

( सपा )

अबकी घूम रहे अखिलेश,
हवा भर रहे नेताजी.
जैसे-तैसे सत्ता पायें,
फिर से हों  गुंडे राजी !!

( बसपा )

माया अपना जन्मदिन मनाएं,
हम सब देते ढेर  दुआएं,
खूब कमाएँ,
यदि लौट के आयें !!

36 टिप्‍पणियां:

  1. वाह वाह जी वाह,बहुत खूब जी बहुत खूब!
    सब पार्टियों की लुटिया गयी है डूब!

    उत्तर देंहटाएं
  2. तुकबंदी अच्छी लगी,सुंदर प्रस्तुति.

    माया जी की बोलती बंद कर रहे अखिलेश
    राहुल जी भी दौड रहे भाजापा के संग रेश
    भाजापा के संग रेश,अन्तमें जीत हमारी होगी
    मुलायमसे मिलकर,सरकार बनायेगी कांग्रेस,...


    --काव्यान्जलि --हमदर्द-.

    उत्तर देंहटाएं
  3. सभी राजनैतिक दलों की वर्त्तमान स्थित का सही चित्रण.
    vikram7: जिन्दगी एक .......

    उत्तर देंहटाएं
  4. राजनीति के खेल में रंगें सभी एक रंग,
    हमें लड़ाएं साथ में और वो सब हैं एक संग!
    बढ़िया त्रिवेदी जी, चुनावी रंग में चुनावी दांव!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कब तक आग-पानी खेलेंगे,
      कभी तो खुद भी जलेंगे !

      हटाएं
  5. चुनावी राजनीति को बेनकाब करती पंक्तियां.

    उत्तर देंहटाएं
  6. (१) शीघ्र पतन
    (२) नौ कनौजिया तेरह चूल्हे
    (३) मेरी बीबी की शादी
    (४) मोरे सजन हैं उस पार मैं इस पार

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. १)अपने पाँव कुल्हाड़ी
      २)दिल्ली दूर,लखनऊ भी दूर,कहाँ जाये यह हूर ?
      ३)बिल्ली के भाग से छींका टूटा
      ४)घूंघट खुलेगा भी या नहीं ?

      इससे ज़्यादा अपन की औकात नहीं है ,अली भाई !

      हटाएं
  7. हम तो यही कहेंगे --

    नेताओं को मत मिले
    पार्टियों को बहुमत मिले ।

    जनता को चावल दाल मिले
    दो रूपये किलो हर माल मिले ।

    अब देखते हैं , क्या होता है ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपके मत से,
      नेताओं को सम्मति मिले,
      फूल उनके गुलशन में नहीं,
      हम सबके चमन में खिले !

      हटाएं
  8. सभी ब्लॉगर वोट डालने जांय और अच्छे प्रत्याशी को जितायें। मतदाता निर्भय हो। लोकतंत्र की जय हो।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इसके लिए तो ब्लॉगर्स को ही टिकट देना पड़ेगा !

      हटाएं
    2. टिकट के दौड में मेरा नाम लिख ले,...

      हटाएं
    3. आपको अनूप पुर,शहडोल से अगले चुनाव में टिकट दिया जाता है !

      हटाएं
  9. संतोष जी को ब्लॉगर पार्टी की बधाई...टिकट की पहली उम्मीदवारी आई..बगैर मोलभाव किये तत्काल टिकट दे दीजिए जी..इनसे अच्छा उम्मीदवार आपको कहाँ मिलेगा!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. टिकट देने बोले रहे हैं या टिकट काटने :)

      हटाएं
    2. यहां..अभी टिकट के मामले में ब्लॉगरों में कटी-कटा नही है। देने की ही बात है। आप चाहें तो दूसरी उम्मीदवारी के लिए फारम भर सकते हैं:)

      हटाएं
    3. अली साब का राठ,हमीरपुर से व देवेन्द्र जी का डुमरिया गंज से टिकट पक्का है !

      हटाएं
  10. सभी पार्टियों को सही से लपेटा है आपने ...
    सभी एक ही थैली के हैं ... कोई एक नहीं आया तो मिल बाँट के खायेंगे ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या क्षणिकाएं हैं जी !सभी की धुल दी आपने अच्छे से !... लेकिन ये इतने से ही 'साफ़' होने वाले नहीं हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  12. राजनैतिक परिवेश का सटीक चित्रण ..अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं