13 जुलाई 2012

वर्षा गीत !

वर्षा की रिमझिम बूंदों ने 
मन में नई मिठास भरी,
नए-नए पौधों से सजकर 
सारी धरती हुई हरी ||


सूरज की कठिन चुभन से
तन जब अग्नि समान हुआ,
मेघ-देव से जल-प्रसाद पा 
शीतल,शांत महान हुआ ||


झड़ी लगी जब वर्षा की 
लबालब्ब सब खेत हुए,
कृषकों के नाचे मन-मयूर 
मुदित सभी के हृदय हुए ||


वर्षा-देवी के स्वागत में
सूरज ने गरमी रोकी ,
पशु-पक्षी सारे चहक उठे
आई बहार भी फूलों की ||


हे वर्षा-देवी ! स्वागत-स्वागत 
सूखी धरती पर बार-बार,
तुम आईं ,जीवन आया 
संग में आईं खुशियाँ हज़ार ||




विशेष : रचनाकाल --१८/०६/१९९० 
स्थान: दल्ली-राजहरा (छत्तीसगढ़)

36 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर वर्षा स्वागत गीत...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच्ची बहुत सुन्दर -बस अब इसे नंदन या चम्पक में भेज दें!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हा हा हा ! अरविन्द जी की टिप्पणी ने हंसा दिया .
      वर्षा का साथ मुबारक हो . :)

      हटाएं
    2. :-)

      सुन्दर गीत है....
      अनु

      हटाएं
    3. हा हा हा हा माट साब के लिए मिसर सर की प्रस्तावना का हम पुरजोर समर्थन करते हैं , मेज थपथपा कर प्रस्ताव पारित किया जा रहा है माट साब । जलसे की तैयारी करिए अब :)

      हटाएं
    4. २२ साल पुरानी रचना ...
      वा वाह... वा वाह....

      हटाएं
    5. गुरूजी,नंदन और चम्पक वाले इत्ती आसानी से नहीं छापते.यह कविता तब मैंने स्थानीय अखबार में दी थी,पर शायद उन्हें हमारी 'प्रतिभा' का अहसास नहीं था.

      हटाएं
  3. वर्षा की बूंदे गिरी, पड़ने लगी फुहार
    कृषक भी खुश हो उठे छा गई बहार,,,,,,

    बहुत सुंदर प्रस्तुति,,,,

    RECENT POST...: राजनीति,तेरे रूप अनेक,...

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिल्ली का दिल भी तरावट महसूस करने लगा-
    बढ़िया भाव ||

    पूरब में अब बाढ़ ने , ढाया कहर अजीब |
    वर्षा रानी दे रहीं, थोड़ी ज्यादा पीर |

    पश्चिम में सावन छाता, ठीक ठाक संतोष |
    कवि हृदयों में है बढ़ा, ज्यादा जोश-खरोश ||

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिल्ली का दिल भी तरावट महसूस करने लगा-
      बढ़िया भाव ||

      पूरब में अब बाढ़ ने , ढाया कहर अजीब |
      वर्षा रानी से हुआ, ज्यादा त्रस्त गरीब |

      पश्चिम में सावन घटा , ठीक ठाक संतोष |
      कवि हृदयों में है बढ़ा, ज्यादा जोश-खरोश ||

      हटाएं
    2. रविकर ने छोड़ दिया,है अचूक हथियार |
      घायल रचना हो गई,बारिश बंटाधार ||

      हटाएं
  5. हे वर्षा-देवी ! स्वागत-स्वागत
    सूखी धरती पर बार-बार,
    तुम आईं ,जीवन आया
    संग में आईं खुशियाँ हज़ार ||

    सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये तो मानना ही पड़ेगा कि छत्तीसगढ़ ने आपको प्रेरित किया ! कविता ठीक है उसमें आपकी युवकाईके दिनों की झलक मिलती है !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अली साब,उम्मीद है कि युवकाई के दिनों की कविता पढ़कर उबकाई नहीं आई होगी !

      ...स्नेह के लिए विशेष आभार !

      हटाएं
  7. सुंदर वर्षा गीत ....मिश्रा जी ने अच्छा सुझाव दिया है ....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बारिश की सोंधी खुशबू से आह्लादित रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. दल्‍ली राजहरा, छत्‍तीसगढ़, इसीलिए इतना सुंदर. (पाबला जी ध्‍यान दें.)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पाबलाजी,ज़रा व्यस्त रहते हैं आजकल !

      हटाएं
  10. हृदय नम करती वर्षा की बूँदें, वाह..

    उत्तर देंहटाएं
  11. यह पुरानी रचना हर वर्षा ऋतु में नवीन रंग देगी। सुंदर सरस गीत है..

    उत्तर देंहटाएं
  12. वर्षा यहाँ, वर्षा वहाँ
    भीगा हुआ सारा जहाँ

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत - बहुत सुन्दर सावनी रचना..
    बेहतरीन है:-)

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस कविता के हरेक बंद पर कुछ ना कुछ लिखने का मन हो रहा है...

    (1)इसे पढ़कर पता चलता है कि छत्तीसगढ़ में जून, 1990 में नये-नये पौधे रोपे गये थे।:)
    (2)इसे पढ़कर ज्ञान हुआ कि वर्षा का प्रसाद पा कर व्यक्ति शीतल, शांत होने के साथ-साथ महान भी बन जाता है। आज से छाता लगाना बंद।:)
    (3)यह तो मुझे भी लगता है। ऐसा ही होता होगा।
    (4)वर्षा के बाद बसंत-बहार का मौसम आता है।
    (5)अतिंम बंद बहुत अच्छा लगा।

    ....सुखद एहसास कराने के लिए धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सूरज की कठिन चुभन से
    तन जब अग्नि समान हुआ,
    मेघ-देव से जल-प्रसाद पा
    शीतल,शांत महान हुआ ...

    बरखा का प्रताप ... अग्नि देवता भी प्रसन्न हो गए और अपनी चुभन कम कर गए ....
    हर छंद मस्त बहार की तरह ..

    उत्तर देंहटाएं
  16. हे वर्षा-देवी ! स्वागत-स्वागत
    सूखी धरती पर बार-बार,
    तुम आईं ,जीवन आया
    संग में आईं खुशियाँ हज़ार ||


    वर्षा देवी का सुंदर स्वागत !!
    बारिश का मौसम ही कुछ ऐसा है कि हर कोई स्वागत करने को तैयार रहता है .....

    उत्तर देंहटाएं
  17. हे वर्षा-देवी ! स्वागत-स्वागत
    सूखी धरती पर बार-बार,
    तुम आईं ,जीवन आया
    संग में आईं खुशियाँ हज़ार ||


    बेहतरीन मनभावन प्रस्तुति.
    पढकर सुखद अनुभव हुआ.

    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  18. हे वर्षा-देवी ! स्वागत-स्वागत
    सूखी धरती पर बार-बार,
    तुम आईं ,जीवन आया
    संग में आईं खुशियाँ हज़ार ||
    अनुपम प्रस्‍तुति ... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत ही सुंदर रचना संतोष जी।

    सूरज की कठिन चुभन से
    तन जब अग्नि समान हुआ,
    मेघ-देव से जल-प्रसाद पा
    शीतल,शांत महान हुआ ||

    शुभकामनाये।
    प्रतीक संचेती

    उत्तर देंहटाएं
  20. वर्षा ऋतु पर सरल शब्दों में लिखी एक अच्छी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  21. वर्षों बाद वर्षा की कविता मैने शीतऋतु में पड़ी.. कपायमान हो उठा.. बहुत सुंदर..

    उत्तर देंहटाएं