25 जुलाई 2012

बादल को किसने देखा है ?

रोज़ सुबह उठकर
बालकनी से निहारता हूँ,
मेरे नीले आसमान में
बादलों के काले-घुंघराले निशान
नहीं दिखते दूर-दूर तलक |
दिल एकदम से बैठ जाता है,
फ़िर से बालकनी को छोड़कर
बादलों को दो बातें सुनाकर
सुखा देता हूँ अपना हलक |

दिन में भी कई बार
देखता हूँ आकाश को
मानसूनी-मौसम में
सीधा-सपाट |
मेह के बिना,
कितना बंजर है वह ?
हम ताकते हैं उससे
उम्मीद की फ़सल
जबकि पत्थरों से फोड़े हैं
खुद अपने ललाट |

अपनी प्रगति की दौड़ में
बिसरा दिया प्रकृति को,
खा गए उसके सब फल |
सोख लिया उसके समुद्र को,
भर लिया असीमित पेट
खाली कर धरती की कोख
लूट लिया नई पीढ़ी के स्वप्न
दे दिया सीमेंट के महल |

अब आसमान को निहारने में
आँख भी साथ नहीं देती,
ज़मीन के साथ-साथ
अब यह भी नम नहीं होती|
बाबा नागार्जुन ने बहुत पहले
बादल को घिरते देखा था,
हम आज की दुनिया में
आगे बढ़ते
प्रगति करते हुए
महज़ कागजी-सवाल करते हैं,
'बादल को किसने देखा है ?'

24 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर रचना ...सूखा सावन हृदय विदारक ही लगता है ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. हर सीमा पार कर गए हैं हम प्रकृति के दोहन की ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. दर्द की बरसात ।

    मार्मिक कथन ।

    सबकी व्यथा ।।



    बचपन में भोगा दिखा, टपका का भय खूब ।

    वर्षा ऋतु में रात दिन, टप टप जाए ऊब ।

    टप टप जाए ऊब, आज भी टपका लागा ।

    बिन बादल की उमस, पसीना टपक अभागा ।

    करता है बेचैन , नैन टकटकी लगाए ।

    ताकें जल के सैन, और कुछ भी ना भाये ।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. when we constantly abuse our ecology and pollute the environment, we have to expect these repurcussions. we are all unhappy about the delay in the monsoon, but none of us will stop using plastic bags..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बरखा विरह!!
    शानदार अभिव्यक्ति!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बादलों को दो बातें सुनाकर
    सुखा देता हूँ अपना हलक |

    खुद ही पैरों पर कुल्हाड़ी मार कर बादलों को दोष देने में लगा है इंसान .... सार्थक रचना ॥

    उत्तर देंहटाएं
  7. यथार्थ को शब्दों में उतरा है आज ... बाबा तो सच ही कह गए हैं ... आंखमिचौली खेलने लगी है बरसात अब तो ..

    उत्तर देंहटाएं
  8. हर कवि ने देखा है और हर किसान ने - ख्यालों में

    उत्तर देंहटाएं
  9. बादलों के दल की दिल्‍ली को इंतजार है।
    चाहे दिखे न, बरस जाए, भिगोए मन।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बादल बस अपनी बात कहते हैं, किसी की सुनते नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. कही जोर से बादल फटते,कही होती बरसात
    सावन सूखा उमस से, कटते नहीं दिन रात,,,,,,,

    बहुत बढ़िया प्रस्तुती, संतोष जी,,,,,,

    RECENT POST काव्यान्जलि ...: आदर्शवादी नेता,

    उत्तर देंहटाएं
  12. हलक सुखाने से क्या फायदा पथराई हुई आंखों से बादलों का इंतज़ार लिखते तो बादलों का दिल भी पसीज जाता !

    दिल्ली जाने से क्यों घबरा रहे हैं बादल ? ये तो बडी चिंता का विषय है !

    उत्तर देंहटाएं
  13. सावन में - 'सूखा', .. हमारी ही करतूत .. सुंदर पंक्तियाँ.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत खूब...

    तुमने बादल को आते देखा होगा
    मैने तो बादल को जाते देखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. ये दिन भी आने ही थे, इतना श्रम जो क्या है :(

    उत्तर देंहटाएं
  16. सामयिक और विचारणीय पारिस्थितिकी बोध -कविता

    उत्तर देंहटाएं
  17. आगे बढ़ते
    प्रगति करते हुए
    महज़ कागजी-सवाल करते हैं,
    'बादल को किसने देखा है ?'
    .....एक सच को बयान किया है आपने।
    सामयिक बेहतरीन कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  18. अब आसमान को निहारने में
    आँख भी साथ नहीं देती,
    ज़मीन के साथ-साथ
    अब यह भी नम नहीं होती|

    ....प्रकृति के साथ खिलवाड़ का परिणाम भुगत रहे हैं...ऐसा ही रहा तो शायद वर्षा भी एक ख्वाब बन कर रह जाये...बहुत सुन्दर और सटीक प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  19. क्या बात है रविकर जी ,मजा न आ गया ,कतई लठ्ठ गाढ दिए भाई आज तो ..बढिया व्यंग्य संतोष त्रिवेदी जी का .
    अब आसमान को निहारने में
    आँख भी साथ नहीं देती,
    ज़मीन के साथ-साथ
    अब यह भी नम नहीं होती|
    प्रकृति (राजनीति की )और पर्यावरण (सामाजिक )सभी कुछ पिरो दिया इस छोटी सी कविता में .

    ..कृपया यहाँ भी पधारें -

    कविता :पूडल ही पूडल
    कविता :पूडल ही पूडल
    डॉ .वागीश मेहता ,१२ १८ ,शब्दालोक ,गुडगाँव -१२२ ००१

    जिधर देखिएगा ,है पूडल ही पूडल ,
    इधर भी है पूडल ,उधर भी है पूडल .

    (१)नहीं खेल आसाँ ,बनाया कंप्यूटर ,

    यह सी .डी .में देखो ,नहीं कोई कमतर

    फिर चाहे हो देसी ,या परदेसी पूडल

    यह सोनी का पूडल ,वह गूगल का डूडल .

    उत्तर देंहटाएं
  20. ओह! सच में बहुत ही दुखद स्थिति है.

    आपकी प्रस्तुति हृदय को झकझोर रही है.

    उत्तर देंहटाएं