30 जुलाई 2012

नीके दिन भी आइहैं !

भ्रष्टाचारी-बेल अब ,दिन प्रति बढ़ती जाय |
साँस उखड़ती जा रही,आस गई कुम्हिलाय ।।

रहे रहनुमा नाम के,देश बेंच कर खाँय ।
जन्मभूमि की आबरू,देते रोज़ गवाँय ।।

हवा और माटी कहे,मिली तुम्हारे खून।
काहे के हो रहनुमा,झूठे सब कानून ।।

सत्ता-मद में डूबकर ,भूल गए आचार ।
नारायण के भेष में,फ़ैल रहा व्यभिचार ।।

डरता है ईमान अब,उखड़ रहे हैं पाँव ।
भ्रष्टाचार बदल रहा,रोज़ पुराने दाँव ।।

तुलसी मद किसका रहा,सदा एक-सा काल ।
आह करेगी राख सब,साखी दीनदयाल ।।

लहर चली छोटी सही,यही बनेगी ज्वार ।
नीके दिन भी आइहैं,तू मत हिम्मत हार ।।



27 टिप्‍पणियां:

  1. लहर चली छोटी सही,यही बनेगी ज्वार ।
    नीके दिन भी आइहैं,तू मत हिम्मत हार ।।... है इंतज़ार

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक से एक गजब!!
    अन्तिम दो में आस जगा दिए!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बढ़िया दोहे ...
    संतोषप्रद...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. लहर चली छोटी सही,यही बनेगी ज्वार ।
    नीके दिन भी आइहैं,तू मत हिम्मत हार ।।

    कभी न कभी वो दिन जरूर आयेगे,,,
    बढ़िया दोहे,,,,संतोष जी बधाई,,,

    RECENT POST,,,इन्तजार,,,

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर पर
    हिम्मत ही खुद
    हिम्मत हार रही है !

    उत्तर देंहटाएं
  6. उत्तर
    1. @ देवेन्द्र पाण्डेय से आगे

      ...लेकिन गूगल प्लस वाला आप्शन काहे हटा दिये हैं ! अटेंडेंस दर्ज करने में बड़ी दिक्कत होती है :)

      हटाएं
    2. अली साब,हमने कुछ नहीं किया,सब अपने आप हो रहा है !

      हटाएं
  7. दिल का बात शब्दों में उभर आई है...

    उत्तर देंहटाएं
  8. डरता है ईमान अब,उखड़ रहे हैं पाँव ।
    भ्रष्टाचार बदल रहा,रोज़ पुराने दाँव ।।

    लहर चली छोटी सही,यही बनेगी ज्वार ।
    नीके दिन भी आइहैं,तू मत हिम्मत हार ।।

    आस पर ही दुनिया टिकी है .... सार्थक दोहे

    उत्तर देंहटाएं
  9. आखिरी दो दोहों का क्रम उपर नीचे हो जाय तो अधिक सार्थक हो.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सार्थकता लिये सटीक लेखन ... आभार

    कल 01/08/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.
    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    '' तुझको चलना होगा ''

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहतरीन आशावादी बयान ...
    "एक चादर सांझ ने,सारे नगर पर डाल दी
    ये अंधेरे की सड़क,उस भोर तक जाती तो है"
    शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  12. नीके दिन के लिये शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. क्या कहने ...बस जज्बा बनाए रखिये .....

    उत्तर देंहटाएं
  14. रहे रहनुमा नाम के,देश बेंच कर खाँय
    जन्मभूमि की आबरू,देते रोज़ गवाँय ..

    सार्थक चिंतन ... सभी दोहे कमाल के हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. एक बेहतरीन रचना जो समाज की दशा-दिशा को बहुत ही सशक्त स्वर हमारे सामने रख रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. लहर चली छोटी सही,यही बनेगी ज्वार ।
    नीके दिन भी आइहैं,तू मत हिम्मत हार ।।

    यथार्थ को दर्शित करती प्रेरक प्रस्तुति.

    आभार.

    उत्तर देंहटाएं