28 फ़रवरी 2012

किताब जो बोलती है !


मुझे ले तो आये हो 
ढोकर एक बोरे की तरह,
पड़ी रहूँगी किसी कोने में 
घर में एक बुजुर्ग की तरह ! 
जावेद अख्तर जी से 'लावा' की हस्ताक्षरित प्रति लेते हुए
 (२७/०२/२०१२),पुस्तक-मेला ,दिल्ली 
मेरी बातें सुनोगे भी कभी
या भूल जाओगे 
किसी रिश्ते की तरह ?
मैं गुमसुम हो 
तकती रहूँगी तुम्हारी राह 
कभी तो सहलाओगे मुझे 
जुल्फों की तरह !
हमारे हर्फ़ न होंगे स्याह 
और न ही ज़र्द,
जिंदा रहेंगे अर्थ 
रूह के हिस्से की तरह !

45 टिप्‍पणियां:

  1. कभी तो सहलाओगे मुझे
    जुल्फों की तरह !
    हमारे हर्फ़ न होंगे स्याह
    और न ही ज़र्द,
    जिंदा रहेंगे अर्थ
    रूह के हिस्से की तरह....

    बहुत सुंदर भाव पुर्ण सुंदर पंक्तियाँ ....
    जावेद जी से मुलाक़ात के लिए ...बधाई काश हम भी वहाँ होते...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत धन्यवाद धीरेन्द्र भाई....
      कभी 'तुम्हारौ' मौका आई !

      हटाएं
  2. जिंदा रहेंगे अर्थ
    रूह के हिस्से की तरह....
    sateek abhivyakti .badhai javed ji se mulakat karne par .

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर भाव,
    बधाई!!! जावेद अख्तर जी से 'लावा' की हस्ताक्षरित प्रति प्राप्त करने के लिए...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हाँ विद्या जी...यह जीवन की एक बड़ी उपलब्धि है हमारे लिए !

      हटाएं
  4. पड़ी रहूँगी किसी कोने में
    घर में एक बुजुर्ग की तरह !
    सुंदर रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुनों किताबें बोलतीं, पावन करती देह ।
    कानों में मिश्री घुले, करलो इनसे नेह ।

    करलो इनसे नेह, निभाती रिश्ता हरदम ।
    लेकर जाओ गेह, मित्र ये रहबर अनुपम ।

    मानस मोती पाय, अघाए मानव बुद्धी ।
    साबुन तेल बगैर, करे तन-मन की शुद्धी।

    दिनेश की टिप्पणी - आपका लिंक

    http://dineshkidillagi.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. किताबें दोस्त हमारी
      चलती हैं हमसफ़र की तरह !

      हटाएं
  6. हमारे हर्फ़ न होंगे स्याह
    और न ही ज़र्द,
    जिंदा रहेंगे अर्थ
    रूह के हिस्से की तरह !

    सुंदर अभिव्यक्ति .... किताब पर तो कभी ध्यान चला भी जाये लेकिन उपेक्षित बुजुर्ग क्या करें ?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. करना तो हमें ही है,बुजुर्ग क्या करेंगे ?

      हटाएं
  7. अब ले आए हैं तो पढ़ा भी जायेगा .
    ये तो हो नहीं सकता की सिर्फ ज़ावेद साहब के साथ फोटो खिंचवाने के लिए खरीदी है . :)

    बहरहाल नज़्म बहुत खूबसूरत बन पड़ी है . बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मैं किताब को,
      जावेद को,
      और फोटो को यदि पढ़ सका
      तो धन्य हो जाऊंगा
      पकी हुई फसल की तरह !

      हटाएं
  8. माट्साब!
    इस व्यथा को कभी सुना है किताबों की सिसकियों में:
    कितनी रूहें तडपती हैं,
    पडी-पडी आलमारियों में
    उन किताबों की, जिनके
    दो जुड़े हुए पन्ने भी न काटे गए,
    गर्भनाल की तरह!!

    /
    पुस्तकों की संवेदना की मार्मिक अभिव्यक्ति!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ...और उन्हें छोड़ दिया गया
      किसी लावारिस की तरह !

      हटाएं
  9. मेरी पुस्तकें भी यही कहती हैं मुझसे..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. उनसे बातें किया करो,
      वो हमारा आइना हैं !

      हटाएं
  10. किताब की कथा व्यथा को सुंदर सहज शब्दों में उतार दिया ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. किताबें वैसे भी तड़पती हैं
    हम जैसे चटोर के हाथों पड़कर
    छोड़ता हूं जब उन्हें पूरा ही चाटकर!

    उत्तर देंहटाएं
  12. शीशे के पीछे से झांकती किताबें ऐसे भी बतियाती है ...
    सुन पा रहे हैं तो पढ़ भी लेंगे ही !

    उत्तर देंहटाएं
  13. कभी मैंने भी पुस्तकों की तुलना रूपसियों से की थी ..मुझे तो लाये हो सजना ...क्या बात है ?
    अच्छा जा रहे हो !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मगर वे 'रूपसियां' अब 'बुजुर्ग' बन रही हैं !

      हटाएं
  14. हम सबसे यही शिकायत होगी ......सच में किताबों के मन का दर्द कितना गहरा है.....

    उत्तर देंहटाएं
  15. चकाचक फोटो है। किताबें जो लाये हैं उनके बारे में लिखिये और अपनी कविता में व्यक्त आशंका को खलास कर दीजिये।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. पढ़ तो लेंगे पर लिखना शायद ही हो पाए !

      हटाएं
  16. किताबो की मूक भाषा कभी कभी चीख के भी बोलती है ... पर यदि हम सुनना चाहें तभी ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. वास्तव में किताबों की यही हालात हैं अच्छी पोस्ट बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  18. पुस्तके हमारी धरोहर है उनको सहेजना हमारा कर्तव्य है,...बेहतरीन रचना....
    बहुत अच्छी प्रस्तुति,

    NEW POST ...काव्यान्जलि ...होली में...
    NEW POST ...फुहार....: फागुन लहराया...

    उत्तर देंहटाएं
  19. मस्त तस्वीर...अब किताबों की समीक्षा की जाये...

    उत्तर देंहटाएं
  20. शानदार अभिव्यक्ति.
    किताब को भी जुबान देती हुई.

    उत्तर देंहटाएं
  21. अच्छा ...तो किताब इस तरह भी सोचती हैं?

    :)

    उत्तर देंहटाएं