20 फ़रवरी 2012

ईश्वर क्या है ?

ईश्वर से  मेरा सम्बन्ध
बहुत गहरा है,
खुला और अनौपचारिक !
मैं नास्तिक नहीं हूँ ,
पर मैं डरकर
या स्वार्थवश
नहीं चाहता  उसकी कृपा पाना !
मंदिरों में खूब गया हूँ
पर नहीं मांगी हैं दुआएं ,
किसी और के लिए अनिष्ट ,
अपने लिए सभी साधन !
उसे पूजने में
नहीं ढूँढा है  मैंने कोई यंत्र
या कोई उपाय ,
बस
बैठ जाता हूँ  उसके पास
बिलकुल एकाकार होकर
अपने अन्तरंग साथी की तरह
दुःख-सुख भी साझा करता हूँ ,
पर
अतिरिक्त लाभ की आकांक्षा किये बिना
मैं उसे अपने पास ,
अपने साथ
हमेशा पाता हूँ .
ईश्वर वह नहीं है
जो हमसे कुछ चाहे,
उसकी पूजा के बदले
हमें भी दे सके कुछ !
वह न स्वार्थी है और न अभिमानी !
ईश्वर न कभी शाप देता है
न कोरे आशीर्वाद .
वह तो हमारे साथ चलता है,
हमें सचेत करता है
पर हम हमेशा
बुरा होने पर उसको ज़िम्मेदार
और अच्छा होने पर अपनी पीठ थपथपाते हैं.
ईश्वर कभी प्रतिशोध नहीं करता ,
और न ही प्रतिक्रिया देता है,
वह समान भाव से
हमें दिखाता है रास्ता
सहता है हमारा क्रोध
बताता है यथार्थ
और
मुहर लगाता है हमारे कर्मों पर !
ऐसे ईश्वर को
मैं चाहता हूँ,
वह रहता है हमारी आत्मा में
नहीं मिलता है किसी शिवालय या देव-स्थान में,
हम सबके पास है
हमारा अपना ईश्वर
और हमारी तरह
वे सब ईश्वर अलग नहीं हैं.
वह एक ही है
उसका कोई धर्म,रंग या देश नहीं है.
ऐसे ईश्वर के लिए
अगर मैं आस्तिक हूँ तो हूँ !



52 टिप्‍पणियां:

  1. आप तो अमरत्व का मार्ग पा लिए गुरु जी !! दुष्यंत की शैली में - मैं जिससे जब चाहे बतियाता हूँ , उस ईश्वर से आपको मिलाता हूँ .

    उत्तर देंहटाएं
  2. इश्वर से माँगने के बजाये, उसने जो दिया है उसका धन्यवाद करें.. और माँगा भी तो क्या.. सुख जो बाद में उख लाता है, धन- जो चोरी जा सकता है, यश- जो कभी सदा नहीं रहा, सफलता- जिसे पाने के बाद आगे की लालसा बढ़ जाती है!!
    बस अपनी अंतरात्मा में उसे खोजना ही आस्तिकता है और उसकी पूजा भी!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. उसे अपने में ढूंढोगे तो मिल जायेगा !

      हटाएं
  3. प्रभु तो अपना याड़ी है
    डर कर भी कोई इज़्जत होती है क्या ☺

    उत्तर देंहटाएं
  4. यही तो है हमारा वाला भी ईश्‍वर.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ईश्वर न कभी शाप देता है
    न कोरे आशीर्वाद .
    वह तो हमारे साथ चलता है,
    हमें सचेत करता है

    यही सच्ची पूजा है ... अपने अंदर ही कॉज़ कर ईश्वर से बतियाया जा सकता है ॥

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच कहा, भगवान से अपने लिये कुछ अलग मागने को जी नहीं चाहता है...

    उत्तर देंहटाएं
  7. पर मैं उससे मांगना चाहता हूं सारे संसार में सौमनस्य ! महाशिवरात्रि के लिए अशेष शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  8. मानवता को समर्पित एक बेहतरीन रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  9. दुःख सुख का सच्चा साथी ईश्वर ही,जहां हम अपने मन की बात को साझा कर सकते है,..
    बहुत अच्छी प्रस्तुति, सुंदर रचना.....

    शिवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें!
    MY NEW POST ...सम्बोधन...

    उत्तर देंहटाएं
  10. इश्वर तत्व से जब एकाकार हो जाता है तो इंसान खुद इश्वर हो जाता है ... तो फिर कोई चाह भी कैसे रह जाती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. अज़ी आप तो अपनी ही थैली के चट्टे बट्टे निकले ! :)
    बहुत सुन्दर विचार व्यक्त किये हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. डॉक्टर साब....हम चट्टे नहीं बट्टे ही हैं !

      हटाएं
  12. तत त्वं असि...... तूं वही तो हैं ... :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. महाराज,आपसे विशद-विवेचन की दरकार थी !
      ...आभार

      हटाएं
  13. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच
    पर की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  14. ईश्वर एक ही है ...
    भले ही हम उनके नाम अलग रख ले , शीश झुकाने और बंदगी के तरीके अलग बना लें !
    प्रकृति और हमारी अंतरात्मा ईश्वर का ही तो अंश है !
    बाहर कहाँ ढूंढें उसे !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. 'मोको कहाँ ढूँढता बंदे,मैं तो तेरे पास में'-कबीर

      'नाहीं कौनो क्रिया-कर्म में,नहीं आस-विश्वास में"-ललद्यद

      आभार वाणी जी !

      हटाएं
  15. बहुत बहुत सुन्दर....
    अक्षरशः सहमत हूँ आपके भावों से...
    आपकी लेखनी को नमन...

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. विद्या जी ,कृपया इतना न ऊपर चढाएं कि गिरने पर बच भी न सकें !

      आपका आभार !

      हटाएं
  16. बैठ जाता हूँ उसके पास
    बिलकुल एकाकार होकर
    अपने अन्तरंग साथी की तरह...

    और यही सच्ची आराधना है...
    सुन्दर अभिव्यक्ति....
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  17. सर्वे भवन्तु सुखिना सबसे बड़ी प्रार्थना है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. सच कहा आपने सब का मालिक है नाम अलग २ हो सकते हैं पर ईश्वर तो सबका एक ही है |
    सुन्दर रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  19. जाकी रही भावना जैसी, प्रभु मूरत देखी तिन तैसी ...

    उत्तर देंहटाएं
  20. हमको तो ईश्वर से अच्छा कोई दूसरा आविष्कार समझ नहीं आया आज तक !

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाह बेहतरीन !!!!

    ... आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा....!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. ईश्वर की अभिव्यक्ति संतोष में ही है.
    संतोष नहीं तो ईश्वर नहीं,मानो या न मानो.
    संतोष है,तो फिर मांग कैसी.

    लाजबाब प्रस्तुति,संतोष जी.
    बहुत बहुत आभार जी.

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपके विचारों से पूर्णतः सहमत हूँ, कृपया इस संबंध में मेरी रचना "क्या सचमुच ईश्वर है (कुछ सवाल)" जरूर पढ़े।
    http://dineshaastik.jagranjunction.com/author/dineshaastik/

    उत्तर देंहटाएं