13 जनवरी 2013

दर्द और बाज़ार !

दर्द अब निकलता नहीं

महसूसता भी नहीं,


उपजाया जाता है चेहरे पर

खेत में फसल की तरह

और काट लिया जाता है पकते ही .

नकली दर्द खबर बनता है

ऊँचे दाम पर बाज़ार में बिकता है,


उस पर और रंग-रोगन कर

परोस दिया जाता है

सभ्य समाज में चर्चा के लिए .

दर्द अब पीड़ा नहीं बनता

न ही मोहताज़ होता किसी हाथ का

अपने काँधे पर रखे होने का,

साहित्य का हिस्सा बनकर वह,

सम्मान-समारोहों में मालाएं पहनता है

इस तरह दुःख और दर्द को हम नहीं

बाज़ार भोगता है !

 

 

32 टिप्‍पणियां:

  1. महसूसता !!!
    इस प्रकार के शब्दों से बचें

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वे मोहताज़ता भी लिखते तो मैं ऐतराज ना करता :)

      हटाएं
    2. ...अली सा,आपसे ही उम्मीदता थी पर हाय :-)

      हटाएं
    3. पर आपसे उत्तरता की उम्मीदता ना थी :)

      हटाएं
    4. ...अच्छा तो यह आपकी उदारता थी :-)

      हटाएं
  2. पीड़ा देकर जाती पीड़ा,
    नहीं और कोई पथ संभावित,
    मन का बोझ हटाने बैठा,
    दुखमग्ना सी लहर प्रवाहित।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ...महसूस होने से कहीं अधिक प्रभावी हमें लगता है यह शब्द ।कविता में यह चलन में है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. उपजाया जाता है चेहरे पर फसल की तरह ..... सटीक .... सुंदर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बाजारवाद लितना हावी हो गया है ... दर्द भी बिकने लगा है ...
    गहरी अभिव्यक्ति है संतोष जी ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. आलोचना मिलना सौभाग्‍य होता है। काजल जी को धन्‍यवाद दें। उन्‍होंने आपकी कविता में रच-बस कर ही सुझाव दिया है। और प्रवीण पाण्‍डेय जी ने तो (टिप्‍पणियों)को अपने एक महत्‍वपूर्ण आलेख में साहित्‍य का दर्जा तक दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी कविता में यथार्थ की सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति है।

      हटाएं
    2. ...विकेश जी,हमने काजल जी की आलोचना को नकारात्मक रूप से नहीं लिया है,पर अपनी समझ तो बता ही सकते हैं.

      हटाएं
  7. बहुत बढ़िया आदरणीय मित्र ||
    शुभकामनायें-

    जारज-जार बजार सह, सहवासी बेजार |
    दर्द दूसरे के उदर, तड़पे खुद बेकार |
    तड़पे खुद बेकार, लगा के भद्र मुखौटा |
    मक्खन लिया निकाल, दूध पी गया बिलौटा |
    वालमार्ट व्यवसाय, हुआ सम्पूरण कारज |
    जारकर्म संपन्न, तड़पती दर दर जारज ||

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  9. उपजाया जाता है चेहरे पर

    खेत में फसल की तरह

    और काट लिया जाता है पकते ही ......waahh !! bahut khoob !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. उपजाया जाता है चेहरे पर
    खेत में फसल की तरह
    और काट लिया जाता है पकते ही .
    नकली दर्द खबर बनता है
    ऊँचे दाम पर बाज़ार में बिकता है,,,,सटीक अभिव्यक्ति,,,बधाई संतोष जी,,

    recent post : जन-जन का सहयोग चाहिए...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बाज़ारवाद का नंगा सच!

    --
    थर्टीन रेज़ोल्युशंस

    उत्तर देंहटाएं
  12. दर्द का व्यापार ! एक नया पहलु उजागर किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति सोमवार के चर्चा मंच पर ।। मंगल मंगल मकरसंक्रांति ।।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छी अभिव्यक्ति....
    वाकई महसूसता शब्द इंटेंस लगता है...शब्दकोष से परे भी कुछ लिखना चाहिए कभी कभी.
    जैसे हमारा पसंदीदा शब्द है निष्फिक्र :-)

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ...निष्फिक्र भी पहली दफा सुन रहा हूँ:-)

      हटाएं
  15. निश्चित रूप से बाज़ार ही भोगता है.....और यह भी समाज के लिए एक दर्द है

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    मकर संक्रान्ति के अवसर पर
    उत्तरायणी की बहुत-बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  17. दर्द बिकता बाज़ार मे भैया
    जैसे नींबू आचार में भैया

    उत्तर देंहटाएं

  18. दिनांक 03/02/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    -----------
    फिर मुझे धोखा मिला, मैं क्या कहूँ........हलचल का रविवारीय विशेषांक .....रचनाकार--गिरीश पंकज जी

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत खूबसूरती से दर्द की नुमाइश को बखान किया है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर रचना
    http://voice-brijesh.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  21. दर्द के बाजार को बहुत ही खूबसूरती से व्यक्त किया है..
    बेहतरीन रचना...

    उत्तर देंहटाएं