16 जनवरी 2013

तुम और हम !

तुमसे जितनी बार मिला हूँ,
नए रूप से यार, हिला हूँ !(१)

भरे सरोवर मुरझाया-सा ,
छोटे नद औ नार खिला हूँ !(२)
 

बीच समंदर डूबा-उतरा ,
लिए नाव-पतवार मिला हूँ !(३)

गम के घूँट न लगते कड़वे,
चोटों को हर बार सिला हूँ !(४)

तेरे सभी पैंतरे अच्छे,
नहीं हुआ हुशियार,भला हूँ ! (५)
 

12 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया प्रस्तुति |
    आभार आपका ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. ...लाज़वाब! बहुत सटीक और अद्भुत पढ़कर बहुत अच्छा लगा !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. गम के घूँट न लगते कड़वे,
    चोटों को हर बार सिला हूँ ...

    बहुत खूब ... इस ज़माने में वो ही टिक सका है जिसने अपनी चोटों को आप ही सिला है ...

    तेरे सभी पैंतरे अच्छे,
    नहीं हुआ हुशियार,भला हूँ ...

    जीवन इसी भोलेपन में बीतता रहे तो आसान हो जाता है ...

    बहुत लाजवाब शेर हैं सभी इस गज़ल के ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. भरे सरोवर मुरझाया-सा ,
    छोटे नद औ नार खिला हूँ !(२)

    ....बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  6. तेरे सभी पैंतरे अच्छे,
    नहीं हुआ हुशियार,भला हूँ...................बहुत सुन्‍दर।

    उत्तर देंहटाएं
  7. तेरे सभी पैंतरे अच्छे,
    नहीं हुआ हुशियार,भला हूँ
    बहुत उम्दा,सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही बढ़ियाँ, प्रवाहमयी पंक्तियाँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह ग़ज़ल मुझे दे दे ठाकुर :-)

    उत्तर देंहटाएं