10 सितंबर 2012

शब्दों पर पहरे !




न कुछ बोलो
न कहो कुछ
शब्दों पर हैं पहरे,
उठाओ न नक़ाब
शरीफ हैं चेहरे
बनो तुम सब
हम जैसे
 अंधे-बहरे !
Posted by Picasa

28 टिप्‍पणियां:

  1. बड़ा वाकया मार्मिक, संवेदना असीम |
    व्यंग विधा इक आग है, चढ़ा करेला नीम |
    चढ़ा करेला नीम, बहुत अफसोसनाक है |
    परंपरा यह गलत, बहुत ही खतरनाक है |
    लेकिन मेरे मित्र, खींच के लक्ष्मण रेखा |
    खींचे जाएँ चित्र, नहीं करिए अनदेखा ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. शरीफ हैं चेहरे
    बनो तुम सब
    हम जैसे
    अंधे-बहरे !
    .......बहुत सुन्दर लिखा है आपने !

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ पागल है
    थोडे़ से वो
    बोल रहे हैं
    बाकी तो आदमी हैं
    चूने में पानी
    घोल रहे हैं
    सारे देश में
    चूना जो लगाना है
    जहाँ जहाँ हो गया
    है काला पीला
    सबको सफेद
    कर जाना है
    टोपी कुर्ते
    से मैच करले
    इतना चमकाना है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. उफ्फ्फ!! गहरी सचाई है.. मगर अंधे के आगे आईना रखना भी बेकार!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. http://www.facebook.com/groups/462090727146650/ Aseem Trivedi असीम त्रिवेदी समूह के सदस्‍य बनें। अपने मित्रों को बनाएं और प्रोफाइल में असीम त्रिवेदी का खुद का बनाया हुआ स्‍कैच तब तक के लिए लगाएं जब तक बेशर्त रिहाई नहीं होती।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Itane kum shabdon me itani badee baat.

    उठाओ न नक़ाब
    शरीफ हैं चेहरे
    बनो तुम सब
    हम जैसे
    अंधे-बहरे !

    उत्तर देंहटाएं
  7. गिने तुले शब्दों में कितना बड़ा कड़वा सच

    उत्तर देंहटाएं
  8. bolo zarur, magar tol-mol ke. kuchh bhi bakne wale hiro nahi hote

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह पोस्ट भी देखें !

    http://www.hunkaar.com/2012/09/blog-post_11.html

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्या कहने इस धार के
    सरकारी बंटाधार के
    नाव बिना पतवार के
    सत्ताभूमि में उग आये
    खतरनाक खर-पतवार के
    बोलने की आजादी पर
    बैठे पहरेदार के

    क्या कहने...

    उत्तर देंहटाएं
  11. असीम को भेड़िये की जगह खूनी पंजा दिखाना चाहिए था,कड़वा सच...!

    उत्तर देंहटाएं
  12. शब्द बोलने और चित्र उकेरने ... सभी पर पाबंदी है ...
    ये एमरजेंसी से कम है क्या ... अब तो खुले आम बंदिशें हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. न्यायालय ने स्वतः संज्ञान लेते हुए असीम त्रिवेदी को राजद्रोह के आरोप से मुक्त करके निजी मुचलके पर रिहा कर दिया है ।
    ...न्यायालय को नमन।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बोलिये सुरीली बोलियाँ ... अन्याय का विरोध हो पर राष्ट्र की कीमत पर नहीं! देश का सम्मान बना रहे!

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाकई ......लोकतंत्र की वन्दिशें .....ये कैसा विलोम है ?

    उत्तर देंहटाएं