1 सितंबर 2012

परिकल्पना के विविध रंग !

हम कुछ नहीं कहेंगे !
 
जाकिर,रवीन्द्र और हरीश --कुछ रोड़ा है क्या ?
 
 
निवेदिता ,शिखा  व रमा द्विवेदी -हम तो मगन हैं !
 
 
अविनाश,सुभाष राय-देखिये हम लम्पट नहीं हैं !


योगी अरविन्द -कारवाँ गुजर गया,गुबार देखते रहे...


रवीन्द्र-पुंज --हम भी हैं जोश में !


रवीन्द्र--नया प्रभात  !


पूर्णिमा--अमावस खत्म हुई !


उद्भ्रांत -ब्लॉगर न हों आक्रांत !

 
सरदार,असरदार,ख़बरदार !



सिद्धेश्वर,रतलामी,रतन सिंह -समझ रहे हैं सब !

 
प्रेम,प्रवीण,संजय भास्कर-मास्टर अभी भी हैं हम !
 
 
स्मृतियों में लखनऊ ....


आलोचक वीरेंद्र यादव-कुछ सोचने दो !


यह अपनी सहज मुद्रा है  !


इस्मत जैदी-तरन्नुम में गाइए !


मत चूको चौहान...!
 
 
सुधाकर अदीब,सुशीला पुरी -साहित्य का साथ !
 
 
हम ब्लॉगर ही नहीं नेता,शास्त्री,कवि और योगी भी हैं !
 
 
शैलेन्द्र सागर-अहमियत पहचानी !
 
 
राकेश कुमार -रंगमंच है यह भी !
 
 
गुड़ और चीनी के बीच चाय !


सम्मान-समारोह की झलकियाँ !

यहाँ भी देखें !
 
 

27 टिप्‍पणियां:

  1. .........


    (हम ने भी कुछ नहीं कहा ... ;-) ... )

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह.... फोटो देखकर मज़ा आ गया...

    उत्तर देंहटाएं
  3. चिन्तक अरविन्द और गुरु**** और गुरुद्रोही के साथ अरविन्द ,यंग्री यंग मैंन की भूमिका में मायिक पर दहाड़ते रवींद्र प्रभात ..आदि आदि -
    कैप्शन लगाओं न !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ...लगाते हैं 'कैप्शन' गुरूजी !

      हटाएं
    2. फक्कड गुरु, भयंकर चेला !
      अब शिव छोड़,विष्णुपद पाए !
      विश्व आस्कर लेकर अब
      यह ब्लॉगरत्न को लेने जाएँ !

      बधाई आस्कर की, चीनी गुरु :)


      हटाएं
    3. हम तो चाहते थे कि 'भयंकर ब्लॉगर' सम्मान हमें मिले पर मामला जमा नहीं !

      हटाएं
  4. बढ़िया, बिना कहे सब कह दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  5. चित्र में परिचय होता तो हम भी उन महान विभूतियों से परिचित होते... कुछ तो परिचित हैं!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. चित्रावली में सब देखने को मिल गया..

    उत्तर देंहटाएं
  7. चित्रों के माध्यम से सबसे मिलना अच्छा लगा ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी फोटोग्राफी ने परिकल्पना के कल्पना को साकार कर दिया,,,,बधाई,,,आभार
    आपके साथ कोई फोटो न होने का अफ़सोस है,

    उत्तर देंहटाएं
  9. तसवीरों का यह साथ बहुत अच्छा लगा।
    अपने मतलब के दो चित्र यहाँ से साभार ले रहा हूँ।


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर चित्रों वाली बढ़िया पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बढ़िया, वैसे कैपसन में कुछ और गुंजाईश शेष है !

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह !
    चीनी भी आया था कोई
    सम्मेलन में एक
    ये एक नयी खबर है !

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह! तस्वीरें भी खूब और उनके साथ की कमेंटरी भी बहुत खूब :) योगी अरविन्द :) ब्रह्मचर्य की ओर प्रस्थान कर रहे हैं ;)

    उत्तर देंहटाएं
  14. बढ़िया चित्रावली...कैप्शन खूब जम रहे हैं....

    उत्तर देंहटाएं