25 सितंबर 2012

गाँठ पड़ना ठीक है !


गाँठ जो है
तेरे मेरे बीच,
बाँधती भी है
अलगाती भी है।

गाँठ जो खुलती है
तेरे मेरे बीच,
राह बढ़ती है,
तन्हा छोड़ जाती है ।

गाँठ गर पड़ती नहीं
तेरे मेरे बीच,
एक-दूजे की अहमियत
समझ में आती नहीं ।

गाँठ का बँधना सदा
पक्का नहीं होता,
इतनी कसावट में भला
सहजता टिक पाती कहीं ।

 

24 टिप्‍पणियां:

  1. गाँठ देख कर लगता कि जो जितना भागने की कोशिश करेगा, उतना ही जकड़ जायेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. टूट चुका हो जो कुछ उस पर गाँठ पड़ जाए तो ठीक है अटूट पर गांठ पढ़ना उचित नहीं !

    उत्तर देंहटाएं
  3. गंभीर रचना ।

    बधाई संतोष भाई ।।



    मन की गाँठों से सदा, बढ़ता दुःख अवसाद ।

    मन की गाँठे खोल दे, पाए मधुरिम स्वाद ।

    पाए मधुरिम स्वाद, गाँठ का पूरा कोई ।

    चले गाँठ-कट चाल, पकड़ के खुपड़ी रोई ।

    रविकर लागे श्रेष्ठ, सदा ही गाँठ जोड़ना ।

    अपना मतलब गाँठ, जानते दुष्ट छोड़ना ।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. चाहें न चाहें, गांठ कभी न कभी पड़नी ही है। बस उसे समझदारी से सुलझाना आना चाहिए..

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये भी ठीक है....
    गाँठ ही सही...जुड़े तो हैं....

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  7. गाँठ पड़के भी साथ रहती है - ज़िन्दगी जी लेने को वाकई एक गाँठ भी काफी है

    उत्तर देंहटाएं
  8. गाँठ जो है
    तेरे मेरे बीच,
    बाँधती भी है
    अलगाती भी है।
    बिल्‍कुल सही ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. गाँठ बाँध कर साथ में,फेरे लेती सात
    जीवन भर साथ निभाय,कहाँ गाँठ की बात,,,,,

    RECENT POST समय ठहर उस क्षण,है जाता,

    उत्तर देंहटाएं
  10. उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सही बात...
    गाँठ जो है
    तेरे मेरे बीच,
    बाँधती भी है
    अलगाती भी है।
    गांठ ही सही जोड़े तो रक्खे है
    एक -दुसरे से..
    बेहतरीन रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत से नए रिश्तों की शुरुआत गांठ से ही होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. चलिये गांठकथा से कुछ तो पता चला

    उत्तर देंहटाएं
  14. मगर जो दिखायी दे रही है वह तो पक्की गाँठ हैं ! रीफ नाट है या ग्रैमी नाट भुला गया सब -मछली के जाल और नावों के डोर में हम भी कभी इनकी प्रक्टिस करते थे -बाद में पता लगा कि खूंटा गाँठ तो पुरनियें कब से बन्ध रहे हैं गोरू बर्धा को कंट्रोल में रखने के लिए -आप कहीं बंधे हैं या किसी को बान्ध लिए हैं ?

    उत्तर देंहटाएं
  15. बाँध ली मैने ये बात
    आपकी गाँठ की तरह
    गाँठ पड़ गयी अगर
    खोलूंगा ही नहीं मगर
    जुड़ा रहूँगा पास पास
    दूर भी नहीं जाउंगा
    और रहूंगा भी बेखबर !

    उत्तर देंहटाएं
  16. टूटे- रिश्ते जोड़ती , गाँठ मिलाती योग
    भले काम के वास्ते ,इसका करें प्रयोग
    इसका करें प्रयोग,आप हर गठबंधन में
    सात उम्र का साथ, बाँधती प्रेमांगन में
    जीवन के दिन चार, न कोई साथी छूटे
    गाँठ मिलाती योग , जोड़ती रिश्ते टूटे ||





    उत्तर देंहटाएं
  17. गांठों के प्रकार भिन्‍न भिन्‍न होते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  18. गांठ पड़े भी तो खोलना ही बेहतर ...!!

    अच्छी रचना ...!!

    उत्तर देंहटाएं