31 मई 2012

निखंड घाम में !



निखंड घाम में काम करता आदमी,
पसीने को भी तरसता है ,
बंद कमरों में बैठे भद्र जन
बाहर का तापमान नाप रहे हैं ||

निखंड घाम में बाहर जाता आदमी
होठों से प्यास को दबाता है,
मॉल में घूमते बड़े लोग
ठंडी बियर डकार रहे हैं ||

निखंड घाम में सफ़र करता आदमी
गमछे से मुँह ढाँपता है,
बी एम डब्ल्यू में बैठे लोग
पॉप संगीत पर ठहाके मार रहे हैं ||

निखंड घाम में घर लौटता आदमी
एक नींबू के लिए मोलभाव करता  है,
कोठियों में आते संभ्रांत जन
अंगूर की पेटियाँ ला रहे हैं ||

73 टिप्‍पणियां:

  1. hamne bhi gandhi aashram se ek gamchha 90 rs. me liya hai.
    hijaab me nikalna padta hai.

    उत्तर देंहटाएं
  2. निखंड घाम में सफ़र करता आदमी
    गमछे से मुँह ढाँपता है,
    बी एम डब्ल्यू में बैठे लोग
    पॉप संगीत पर ठहाके मार रहे हैं ...

    कितना कडुवा सच लिखा है ... यथार्थ लिखा है ... आम आदमी की त्रासदी कों लिखा है शब्दों में ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. ...हो सकता है,कुछ पंक्तियाँ यहाँ डाल देते तो मैं भी समझ सकता !!

      हटाएं
  4. सुख से यहाँ भी दूरी है
    सुख से वहां भी दूरी है ,
    यहाँ हेल्थ की मजबूरी है
    वहां वेल्थ की मजबूरी है !

    जिंदगी तेरे कितने रूप !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दराल साब,क्या खूब फ़रमाया है...!

      हटाएं
    2. वास्ते दराल साहब ,

      जिंदगी तेरे कितने रूप
      कहीं छांव तो कहीं धूप

      हटाएं
  5. दो स्थितियों के विरोधी दृश्य-क्रम को लिए रचना, सच्चाई रखने ka प्रयास!

    उत्तर देंहटाएं
  6. उत्तर
    1. सतीश भाई ,
      संतोष जी ने दो परिस्थितियाँ सामने रखी हैं आपने कौन सी वाली के लिए उन्हें शुभकामनाएं दीं हैं :)

      हटाएं
    2. फंसायें मत गुरुवर ....

      मैंने सिर्फ शुभकामनायें दी हैं :)

      हटाएं
    3. शुभकामनायें भी फंसाती हैं! :)

      हटाएं
    4. ...मगर इस वक़्त मुझे सतीश भाई की शुभकामनाओं की सख्त ज़रूरत है |

      आभार

      हटाएं
    5. हमेशा आपके साथ खड़े हैं ...

      हटाएं
    6. सतीश जी,आपके इन शब्दों में गज़ब की ऊर्जा है,आभार |

      हटाएं
  7. निखंड घाम में घर लौटता आदमी
    एक नींबू के लिए मोलभाव करता है,
    ....... यह कविता ....... सत्य की बेहद करीब है !

    उत्तर देंहटाएं
  8. ग़ज़ब की कविता ... कोई बार सोचता हूँ इतना अच्छा कैसे लिखा जाता है ..!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जब दिल से लिखोगे,आप भी लिख सकोगे ||

      हटाएं
  9. कविता पढ़कर ये भाव जगे....

    धूप में
    ढूँढता हूँ
    छांव
    छांव में
    पीता हूँ
    धूप
    घर आता हूँ
    जब थकते हैं
    पाँव
    लिखता हूँ
    धूप-छांव
    मैं कवि हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. यही वह विडम्बना जिसे प्रतिपल भोगने हम विवश हैं।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बस लिखकर दिल का हाल बयां कर देते हैं,
      ऐसे भी दिन आए हैं ,छुपकर हम रो लेते हैं !!

      हटाएं
  11. उत्तर
    1. आभार शिल्पाजी...आप यूँ ही मुस्कराती रहें !

      हटाएं
    2. हे राम - यह मुस्कुराता smiley नहीं था संतोष जी | यह धूप में झुलसते श्रम करते श्रमिक के साथ उदास smiley था | खुदा न करे कि यूँ ही रहना पड़े, हमें, या आपको, या उस श्रमिक को, किसी और को .....

      हटाएं
    3. मुझे कुछ शुबहा हो रंहा था पर शायद स्नेह के कारण या बेख्याली में कह गया ,बाकी आपके भाव समझ गया था !

      हटाएं
  12. संवेदनशील है मामला। शुभकामनायें आपको।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. महराज...शुभकामना के अलावा और कुछ दीजिए.यह काम सतीशजी के नाम पेटेंट है !!

      हटाएं
  13. निखंड घाम के कुछ दृश्य हमने भी देखे ...
    निखंड घाम में
    श्रमिक महिलाएं
    तगार उठाये
    तीसरी मंजिल पर
    ईंटे पहुंचाएं ...
    तोड़ कर प्याज मुट्ठी से
    रोटी को पानी से गटककर
    थोडा सुस्तायें !
    निखंड घाम में कही
    बस के इंतज़ार में
    खड़ी है कुछ महिलाएं
    कतार लगाए !
    उसी निखंड घाम में
    स्कार्फ लपेटे कुछ बालाएं
    दस्ताने पहने
    काला चश्मा लगाये
    फटफटिया की पिछली सीट पर
    फ़र्राट लगाये !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वाणीजी...ई तो हमारी रचना से भी अच्छी रचना है !

      बहुत आभार

      हटाएं
  14. निखंड घाम में अब आप भी अखंड खर खाने को स्वतंत्र हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  15. फिर भी समाजवाद , संवेदनशीलता , समानता की बात होती है ... !

    उत्तर देंहटाएं
  16. मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |
    आओ धक्का मार के, महंगा है पेट्रोल ||
    --
    शुक्रवारीय चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  17. निखंड घाम में सफ़र करता आदमी
    गमछे से मुँह ढाँपता है,
    बी एम डब्ल्यू में बैठे लोग
    पॉप संगीत पर ठहाके मार रहे हैं ||

    बढ़िया प्रस्तुति,सुंदर कविता,,,,,

    RECENT POST ,,,, काव्यान्जलि ,,,, अकेलापन ,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  18. अब निखंड घाम में हमारे मन पर तो केवल एक ही चित्र उभरता है और बचपन से छपा हुआ है.. तोडती पत्थर
    देखा उसे मैंने इलाहाबाद के पथ पर!!
    निखंड घाम में मैंने अपनी आँखों से ४८ डिग्री में डामर की सड़क काटते मजदूर को देखा है जिसके काम का लेखा-जोखा १८ डिग्री पर कमरे में बैठा इंसान कर रहा होता है.. तब मैंने एक शे'र कहा था:
    ठन्डे घरों में करता पसीने का वो हिसाब,
    तपती सड़क पे लम्हा इक गुज़ार तो आये!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ...कितना सटीक कहा है आपने..?

      और हाँ,हम कितना मिस करेंगे आपको सलिल जी ?
      मेरा एकठो शेर आपके वास्ते...

      नज़रों से मेरी छुपके,तुम जाओगे कहाँ,
      करोगे रुख जिधर भी, हमें पाओगे वहाँ !!

      हटाएं
    2. काहे को मिस करोगे उन्हें , उनका नौकरी में तबादला हुआ है वे इंटरनेट की दुनिया से कहीं नहीं जा रहे हैं !

      हटाएं
    3. अली जी, वे दोनों दिल्ली में रहते हैं, रोज़ मुलाकात की सम्भावनायें हैं, ट्रांस्फ़र के बाद मिस करने की पूरी सम्भावना है। :(

      हटाएं
  19. बंद कमरों में बैठे भद्र जन
    बाहर का तापमान नाप रहे हैं.....
    जबर्दस्त...
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
  20. सच तो यही है .. जो आपने कहा उत्‍कृष्‍ट लेखन के लिए आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. संतोष त्रिवेदी जी पहली बार आपके ब्लॉग पर आना हुआ बहुत सुन्दर व्यंग्य कापुट लिए प्रस्तुति बहुत पसंद आई

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका स्वागत है !

      ...यह हमारी बदकिस्मती है कि हमारे व्यंग्य को लोग गंभीर समझ लेते हैं और गंभीर को व्यंग्य:-)

      हटाएं
  22. निखंड घाम में काम करता आदमी,
    पसीने को भी तरसता है ,
    बंद कमरों में बैठे भद्र जन
    बाहर का तापमान नाप रहे हैं |

    ...एक कटु सत्य जिसका हमारी व्यवस्था के पास कोई ज़वाब नहीं .....

    उत्तर देंहटाएं
  23. सटीक .... यह उहापोह जीवन में हर कहीं दिखती है....

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुख दुख, अमीरी गरीबी, जीवन के दो रूप ... सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  25. एक सुखी है एक दुखी है, एक हंसता एक रोता रे, क्या कारण होगा,रे क्या कारण होगा?
    हर सफल शोषक नहीं होता,हर दुखी नहीं पीडित रे, कोई कारण होगा,सोचो तो कोई कारण होगा?

    वैसे इस निखण्ड घाम का अर्थ क्या है?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुज्ञ जी,
      निखंड घाम का मतलब कड़ी धूप |

      हटाएं
    2. निखंड घाम!! :) वाह!! आभार संतोष जी

      हटाएं
  26. उत्तर
    1. यह कट-पेस्ट टाइप टिपियाना छोड़कर पढ़ना शुरू करो,सब आयेंगे !

      हटाएं