26 मई 2012

ईमानदारी अब डराती है !

ईमानदारी
अब कीमत चुकाती है ,
बीच सड़क पर
क़त्ल होती है वह
व्यवस्था आँख मूँद कर चली जाती है !

ईमानदारी
अब सबको डराती है,
दिन के उजाले में भी
स्याह*अँधेरा लाती
सूरज की रोशनी  शर्माकर चली जाती है !

ईमानदारी
अब कहर ढाती है,
भरे-पूरे परिवार को
जड़ से तबाह कर
सांत्वना दिलाकर चली जाती है !

ईमानदारी
सपने नहीं दिखाती है ,
किताबों में रहकर
पन्ने-पन्ने नुचकर
नारों (नालों) में बहकर चली जाती है !


....इतना होते हुए भी वह
ईमानदारी को बचाये हुए है,
भौतिकता को छोड़कर
केवल अपनी आत्मा के साथ
गठबंधन निभाए हुए है !!




विशेष: बंगलौर में शहीद हुए ईमानदार अधिकारी महंतेश को समर्पित !

32 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया है।

    मेरे खयाल से 'अब' न होता तो भी अच्छा होता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्‍छाइयां हैं जो यूं ही नहीं मर सकतीं, आज तक नहीं मरीं यही सबूत है

    उत्तर देंहटाएं
  3. केवल अपनी आत्मा के साथ
    गठबंधन निभाए हुए है !!

    बहुत बढ़िया लिखा है |
    बूंद बूंद से सागर बनता है ....!!
    नेक कार्य करते चलें...
    शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जाती हुई ईमानदारी से
    बस इतना भर कहना
    जाते हुए भी अपने
    अवशेष छोड़ जाना
    इतिहास में अपने
    पांच अक्षर छोड जाना
    कल हमारे बच्चे
    बडे हो जाएंगे
    जानने और सीखने
    स्कूल जब जाएंगे
    तब उनमें होले से
    जिज्ञासा जगाना
    अवशेष छोड जाना।

    उत्तर देंहटाएं
  5. काश! ईमानदारी थोड़ी बेईमान हो जाती , थोडा ही सही सम्मान तो मिलता .....पता नहीं ईमानदारी अछूतों की श्रेणीं में क्यों आती है ,कोई नहीं बताता ...... अच्छे भाव ,व भावना .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बात में सच्चाई है
    लेकिन वे अमर हैं
    जिन्होने ईमानदारी
    आज तक बचाई है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच! ईमानदारी भी जब अब इमानदार नहीं रह गयी है ऐसे व्यक्तित्व प्रातः पूज्यनीय हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक बढ़िया रचना ....
    आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  9. ईमानदारी तो हमेशा डराती रही है या कठिन परिस्थितियाँ लाती रही है

    उत्तर देंहटाएं
  10. कितना भी डराए , ईमानदारी को डरने की ज़रुरत नहीं .

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक मिनट के मौन"

    "को मेरी टिप्पणी माना जाये !

    उत्तर देंहटाएं
  12. ईमानदारी डराती है..........
    सावधान...मुझे भी बेईमानी समझा जा रहा है.....

    उत्तर देंहटाएं
  13. श्रद्धानाजली का यह रूप, नमनीय है वह शहादत!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. ईमानदारी, सच मानिए बहुत शक्ति दे जाती है
    तभी तो सच के लिए जान दे देने की हिम्मत आ जाती है
    हां राह कठिन है
    पर सुकून मिलता है
    जब मंजिल सामने आ जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. ईमानदारी सपने जगाती है, सपने सच न हो पाने का दुख भी दे जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत कुछ सोंचने पर विवश करती रचना...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  17. लाख मुश्किलें आयें मगर ईमानदारी मजबूत भी बनाती है !
    कुछ लोंग फिर भी ईमानदारी की मिसाल बनाये हुए हैं , उन्हें नमन !

    उत्तर देंहटाएं
  18. इतना होते हुए भी वह
    ईमानदारी को बचाये हुए है,
    भौतिकता को छोड़कर
    केवल अपनी आत्मा के साथ
    गठबंधन निभाए हुए है !!

    ...बहुत सटीक प्रस्तुति...सब कुछ सह कर भी अब भी कुछ लोग ईमानदारी का दामन पकड़े हुए हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. और अच्छी बातों की तरह ईमानदारी भी कहीं ना कहीं जीवित है ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुन्दर प्रस्तुति |
    सही सोच |
    मुश्किल काम ईमानदार होना ||

    उत्तर देंहटाएं
  22. ईमानदारी अगर डराती होती
    तो बेईमानी डर गई होती
    पर उसने कब्‍जा जमाया है
    सब जगह कालाधन समाया है

    नीयत भी सबकी साफ नहीं है
    उसमें भी गंदी नाली का पानी है
    बेईमानी ठाठ से ठाठें मार रही है
    साठ साल की संसद की कहानी है

    दारी हो या गारी हो
    बेईमानी की पहरेदारी है
    बेईमानी के साथ गठबंधन
    उनका जिनकी सीरत बारी है।

    उत्तर देंहटाएं
  23. सभी का आभार...!
    ईमानदारी जिंदाबाद !

    उत्तर देंहटाएं
  24. ....ईमानदारी को बेईमानों की जूती बनने से बचाया जाए ....|

    उत्तर देंहटाएं