14 मई 2012

पढ़ि-लिखि के भकुआ बने यार !

घरवाली हमते समझदार,
पढ़ि-लिखि के भकुआ बने यार !

वी घर का काम लेहेन  मूँड़े
हम बाहर घूमि-घामि आई,
मोबाइल अउ कम्पूटर ते 
जइसे हमारि भै होय सगाई !

लड़ते-झगड़ते हो गए बाइस बरस 
जब द्याखो बात सुनावैं चार 
पढ़ि-लिखि के भकुआ बने यार !

कपड़ा-लत्ता ,बरतन-चउका 
खाना-पीना ,उनके जिम्मे,
ना कहीं घूमना,बाहर खाना
पूजा, बरत निभावैं रस्में !

हमही लरिकन के गुनहगार,
पढ़ि-लिखि के भकुआ बने यार !

अब पूरे बाइस बरस बीते 
वी झेलि रहीं हमरी संगति,
'सत्ती होइ गईंन तुम्हैं साथै'
हमरी घरवाली रोजु कहति !

हमहीं यहि घर के बंटाधार ,
पढ़ि-लिखि के भकुआ बने यार !




80 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. प्रिय संतोष जी ,

      (१)
      और तो सब ठीकै है पत्ति जी पर सत्ती पर हमारी आपत्ति नोट करें !

      (२)
      भाभी के सामने खुद को भकुआ कहना ! स्वयं के घर में आपकी पोलिटिक्स समझ रहा हूं मैं !

      हटाएं
    2. (२) यह तो मुझे भी लग रहा है ....

      हटाएं
    3. अली साब

      १)आपकी टीप आपत्ति है या विपत्ति.....?

      हटाएं
    4. सतीश जी,आप तो ऐसे न थे...!

      हटाएं
  2. बहुत बहुत शुभकामनाएं -
    झेलते रहो एक दूसरे को-
    फिर भी आपके लिए-

    बाइस पसेरी में बिका, भैया सारा धान |
    रचो सुरक्षित बाइसी, करो सती-गुणगान |

    करो सती-गुणगान, मान लो उनका कहना |
    बाई ना चढ़ पाय, करो अब बंद उलहना |

    अगर अकेला पाय, कहीं जो अधिक सताइस |
    बैसवार से आय, धमकिहैं साले बाइस ||

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बहुत बढ़िया रविकर जी...आगाह किये हैं तो हम ख़बरदार हो गए !

      हटाएं
  3. घरवाली हमते समझदार,
    पढ़ि-लिखि के भकुआ बने यार !

    लिखने के बहाने ही सही,घरवाली को समझदार माना तो सही,....

    MY RECENT POST काव्यान्जलि ...: बेटी,,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  4. परिणय बाईसवीं पर दूनौ जनों को हमारी बहुत बहुत शुभकामनाएं!एक क्लोज अप शाट लगाना था न ....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अपनी भी शुभकामनायें :)

      हटाएं
    2. क्लोज-अप शॉट के ख़तरे भी बड़े हैं !

      हटाएं
  5. शुभकामनाएं। ऐसे कई बाईस वर्ष आएं, यही दुआ है...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बहुत बधाई !! और आपकी श्रीमती जी के साहस और धैर्य को प्रणाम !!! ;))

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. काहे को आग लगा रही हो हमरी गिरस्ती मा...?
      आभार !

      हटाएं
  7. सौतन घर लाये भकुआ गये सैंया
    बाईस बरष में बिलाय गये सैंया।

    कम्प्यूटर से कीन हैं दूजी सगाई
    अपने बिलाग मा हिराय गये सैंया।

    हम कहे तनी आज बैठो पास में
    फिर हमका झूठ पढ़ाय गये सैंया।
    ........................ :)

    हमने कह दिया, जो भाभी श्री न कह पायें
    बाइसवीं साल गिरह की अशेष शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. देवेंद्रजी,आपने तो पूरा रंग जमा दिया...उनकी तरफ से !
      आभार !

      हटाएं
  8. 22 में 5 का गुणा करके जो संख्‍या आती है उतनी बधाईयां स्‍वीकारें हमारी ओर से।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अब तो बाइस का पहाड़ा भी भूल गए हैं जी !

      हटाएं
  9. आपकी भाषा में टिप्पणि दे नहीं सकता पर रचना काफ़ी रोचक लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बाईस बरस का साथ प्रिये,
    तुम गृहलक्ष्मी हम घूमें फिरें
    तुम ताजमहल को छोड़ आज
    इंडिया गेट संग संग आयीं.
    तुमरे कारण इस जीवन में
    आई जैसे रस की फुहार,
    सीधी-सादी दुल्हिन, अऊर हम
    पढ़ि-लिखि के भकुआ बने यार !
    /
    माट्साब! परमात्मा जुगल जोडी बनाए रक्खे!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सलिल जी ,
      काहे की जुगल जोड़ी ?

      यहां तो सारा मामला पति पत्नि और वो का है :)

      हटाएं
    2. सलिलजी,क्या मारा है !

      अली साब ने सही पकड़ा है !

      हटाएं
    3. अली सा.
      समझा करें..
      सुबह सुबह एक दोस्त मिला तो हमने "कहा"- और कैसे हो?
      उन्होंने "जवाब दिया" - आज खुलासा नहीं हुआ!
      अब हम तो जुगल जोडी की ही बात करेंगे!! एक समय में एक जोडी!!!
      तीतर के दो आगे तीतर - तीतर के दो पीछे तीतर!! :))))

      हटाएं
  11. उत्तर
    1. एक बार ही दे देते इत्ती कहाँ धरेंगे...?
      आभार

      हटाएं
  12. बाईस बरस की बहुत बहुत बधाई भाई ।
    बहुते बढ़िया रचना लिखे हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बधाई हो जी! भकुआ का अर्थ क्या होता है?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. यह तो वही बताएँगे जो हमें मानतें हैं !

      हटाएं
  14. बहुत बधाई एवं शुभकामनायें ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. बधाई हो .ऐसी ही अंडरस्टैंडिंग बनी रहे !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. उम्मीद नहीं गारंटी है...यह जोड़ टूटेगा नहीं !
      आभार !

      हटाएं
  16. संतोष की बात है :)

    शुभकामनाएँ लीजै!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुज्ञ जी,यहाँ संतोष की ही बात है,जब अली साब की बात होगी तब फिर से भिड़ा जायेगा !
      आभार !

      हटाएं
  17. बहुत बधाई और शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  18. भाभी जी को, आपकी तरफ से कहे यह शब्द, याद आ गए ..

    अपने घर की तंग गली में !
    मैंने कब चाहा बुलवाना ?
    जवां उमर की उलझी लट को
    मैंने कब चाहा, सुलझाना ?
    मगर मानिनी आ ही गयी अब, चरण तुम्हारे ,धोते गीत !
    स्वागत करते,निज किस्मत पर, मंद मंद मुस्काते गीत !


    हार्दिक बधाई आप दोनों को ....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. भाई जी,बहुत बढ़िया फ़रमाया है,आभार !

      हटाएं
  19. घरवाली हमते समझदार,
    पढ़ि-लिखि के भकुआ बने यार !

    HA HA HA HA
    http://blondmedia.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  20. बधाई हो, भकुआ होने की नहीं. बाईस वर्ष पूरे होने की. हमारे बाऊ अक्सर हमारे भाई को भकुआ कहते थे. सहसा याद करके हँसी आ गई :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ...चलो किसी बहाने तो हँस लिए !
      आभार !

      हटाएं
  21. उत्तर
    1. कविता लिखी थी भकुआने के बाद......जब अक्ल आई !

      हटाएं
  22. आपको बधाई...उन्हें शुभकामनाएँ........
    :-)

    बार बार दिन ये आये...........................
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  23. शादी की सालगिरह पर आपको बधाई और शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  24. ज्ञान का कुआं बनने से भकुआ बनना अधिक ठीक लगता है।
    भकुआ शब्‍द की उम्र बतलाएं।
    क्‍या भकुआ शब्‍द भरे कुंए में पाया गया था।
    जो भकुआ कहलाया गया।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. भकुआ का पर्यायवाची लंठ होता है !!

      हटाएं
  25. बधाई ... बाईस बरस ... क्या बात है ... तभी इतनी मस्त रचना निकली है ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. त्वरित टिप्पणी से सजा, मित्रों चर्चा-मंच |
    छल-छंदी रविकर करे, फिर से नया प्रपंच ||

    बुधवारीय चर्चा-मंच
    charchamanch.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  27. अब पूरे बाइस बरस बीते
    वी झेलि रहीं हमरी संगति,
    'सत्ती होइ गईंन तुम्हैं साथै'
    हमरी घरवाली रोजु कहति !

    .....घर घर की कहानी ....बहुत सटीक रचना...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  28. बधाई हो!जैसे बाईस साल बीते वैसे ही और तमाम साल बीतें!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. यह आसिरवाद है या सराप...?

      हटाएं
    2. हम तो शुभकामना के लिये ही लिखे हैं। अब यह आपका पुरुषार्थ है कि इसे किसी और रूप में बदल दे। मनुष्य चाहे तो क्या नहीं कर सकता। :)

      हटाएं
  29. विवाह की बाईसवी वर्षगाँठ की बधाईयाँ

    उत्तर देंहटाएं
  30. २२ साल पूरे करने के लिए बधाई।
    दो नए शब्द भी पता चले भकुआ व लंठ। यदि भकुआ का अर्थ मूर्ख बता देते तो शब्दकोष न खोलना पड़ता।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कष्ट के लिए क्षमा चाहता हूँ....आपका आभार !

      हटाएं
  31. सुंदर रचना रच कही, गिरहस्थी का हाल।
    बहुत बधाई आपको, बीते बाइस साल॥
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  32. पूरे पूरे दिख रहे हैं
    मतलब बाईस साल
    बहुत बुरे नहीं गुजरे हैं
    अभी अट्ठासी साल बचे हैं
    शतक बीर का तमगा
    लेने के आसार पूरे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  33. त्रिवेदी जी,
    आपके विवाह के २२ वर्ष पूरे हुए, बहुत ख़ुशी हुई..ऐसे ही और कई २२ वर्ष आपदोनो के जीवन में आते रहें..
    हार्दिक शुभकामनायें...!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अदाजी...दिल से दी गई आपकी दुआ ज़रूर क़ुबूल होगी !
      बहुत आभार !

      हटाएं
  34. देर से ही सही विवाह की बाईसवी वर्षगाँठ की....बहुत बहुत बधाई....शुभकामनाएं संतोष जी

    उत्तर देंहटाएं