23 मार्च 2013

होली में हुड़दंग !

कुण्डलियाँ

फागुन गच्चा दे रहा,रंग रहे भरमाय।
आँगन में तुलसी झरे,आम रहे बौराय।।
आम रहे बौराय,नदी-नाले सब उमड़े।
सुखिया रहा सुखाय,रंग चेहरे का बिगड़े।।
 
सजनी खम्भा-ओट , निहारे फिर-फिर पाहुन।
अपना होकर काट रहा ये बैरी फागुन।।(१)



होली में देकर दगा,गई हसीना भाग ,
पिचकारी खाली हुई ,नहीं सुहाती फाग !!

नहीं सुहाती फाग,बुढउनू खांसि रहे हैं,
पोपले मुँह मा गुझिया, पापड़ ठांसि रहे हैं।

अखर रहे पकवान,नीकि ना लगै रंगोली।
चूनर लेती जान, कहे आई अस होली।।(२)



 
फागुन के इस समय में,रोया,हँसा न जाय।
पिचकारी में रंग भरें, वो भी गवा बिलाय।।
वो भी गवा बिलाय,बढी अतनी मँहगाई।
देवर खाली हाथ,तकै मुँहु सब भौजाई।
होरी कइसे मनी, कहैं सजनी ते साजन,
बिपदा भारी लिए,खड़ा मुस्काए फागुन।(३)


दोहे

गुझिया,पापड़ छन रहे,रामदीन के संग।
होरी में सब मिल गए,चटख-स्याह एक-रंग।।(1)


आसमान में उड़ रहा,केसर रंग, गुलाल ।
साली को जीजा रँगे, उसको नहीं मलाल ।।(2)



रंग काटने दौड़ते,होली में इस बार ।
हरिया के बरतन बिके, घरवाली बीमार।।(3)

फगुवा टोली देखकर,मन में उठे तरंग ।
साजन हैं परदेस में,नाचूँ किसके संग ।।(4)
...
पीली चूनर उड़ रही,आसमान की ओर ।
धरती पटी गुलाल से,जियरा डोले मोर ।।(5)

बादल होली खेलते,बारिश की बौछार।
फागुन गरज-बरस रहा,भीग गया त्यौहार।(6)

और अंत में गौरैया को समर्पित:

गौरैया गायब हुई,रही हमेशा साथ।
सूना सब उसके बिना,दूध-कटोरी-भात ।।


आँगन में दिखते नहीं, गौरैया के पाँव |
गोरी रोज़ मना रही लौटें पाहुन गाँव ||




विशेष :तीसरी कुंडलिया में बीच की दो लाइनें भारतेंदु मिश्र जी की हैं !

 

23 टिप्‍पणियां:

  1. एक से एक लाजवाब!!
    बहुत बहुत आभार,आया रंगो का त्यौहार

    उत्तर देंहटाएं
  2. होली पर बहुत ही सुंदर कुण्डलिया,,,बधाई संतोष जी,,,

    होली की हार्दिक शुभकामनायें!
    Recent post: रंगों के दोहे ,

    उत्तर देंहटाएं
  3. ब्लागरों /ब्लागरान पर कुछ न लिखा :-(

    उत्तर देंहटाएं
  4. सब रंग लिए ...सुन्दर अभिव्यक्ति ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. संतोष जी बौरा गए, फाग रंग में भीज गए।

    उत्तर देंहटाएं



  6. सब के सब बढ़िया।
    होली के रंग में रंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शब्‍दों में कल्‍पनाओं और भावों की होली, भर भर लो झोली

    उत्तर देंहटाएं
  8. गौरैया गायब हुई,रही हमेशा साथ।
    सूना सब उसके बिना,दूध-कटोरी-भात ।।

    ''अति सुंदर'' होली की बधाई(अग्रिम)

    उत्तर देंहटाएं
  9. मन , महंगाई , स्वास्थ्य बेहतर हो
    तब ही उत्सव भाते!
    होलियाना पोस्ट !

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह, इतने सारे रंग एक साथ.

    उत्तर देंहटाएं
  11. होली में देकर दगा,गई हसीना भाग ,
    पिचकारी खाली हुई ,नहीं सुहाती फाग !!
    नहीं सुहाती फाग,बुढउनू खांसि रहे हैं,
    पोपले मुँह मा गुझिया, पापड़ ठांसि रहे हैं ...
    एक से बढ़ के एक .. सभी छंद, दोहे कमाल के ... होली का हास्य ओर माधुर्य लिए ...
    होली की मंगल कामनाएं ...

    उत्तर देंहटाएं

  12. कल दिनांक25/03/2013 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपकी प्रतिक्रिया का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  13. एक से बढ़ के एक
    होली की मंगल कामनाएं ...!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. आज ही बाहर से बापस लौटा हूँ..
    मस्त होली गीत के लिए बधाई आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  15. अच्छे रंग भिखेर कर होली के गीत गाये जा रहे है। बधाई रंग से सजे गीतों की।

    उत्तर देंहटाएं
  16. लाजवाब तीखे दोहे , एक एक पंक्ति सार्थक रही ! बधाई आपको . . . . .

    उत्तर देंहटाएं