14 फ़रवरी 2013

यूँ दबे पाँव आया वसंत !



यूँ दबे पाँव आया वसंत !
हरियाली की चादर ओढ़े
धूप गुनगुनी साथ लिए,
मंद पवन से द्वार बुहारे
पुलकित मन ,श्रृंगार किये ,

पट खोल दिए दोनों तुरंत !
यूँ दबे पाँव आया वसंत !!

नयनों से धार बही झर-झर
काजल बह गया अश्रु बनकर ,
सामने दिखे मेरे प्रियतम
बरबस लिया उन्हें अंक भर ,

मिल रहे प्रिया से आज कन्त !
यूँ दबे पाँव आया वसंत !!

 

22 टिप्‍पणियां:

  1. बसंत हावी है बुरी तरह। बढ़िया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाँ जी हाँ, इब तो महसूस हो रया है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. दबे पांव आता है...फिर छा जाता है वसंत...

    सुन्दर!!
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. उत्कृष्ट, अद्भुत । बधाई ऐसी रचना के लिऐ ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बसंत दबे पांव आया लेकिन आपके संवेदनशील हृदय से बच नहीं पाया..धरा ही गया।
    ..बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कहाँ आया है जी.. सुबह बारिश हो गयी :P

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूबसूरत वासंती रचना
    बसंत पंचमी की शुभकामनाएँ !!!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बैसवारी में बोले तो 'वसंतियाही पोस्ट' :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. बसंत बहार
    प्रेम अपार !

    कविता शानदार !

    उत्तर देंहटाएं
  10. बसंत को मीठी बयार ओर पीली सर्सों महक रही है ...
    प्रेम भी कहका हुवा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुंदर प्रस्तुति।।
    इस मौसम की बात ही निराली है....

    उत्तर देंहटाएं