22 फ़रवरी 2013

गज़ल

न चराग रहे घर में,
न सुकूँ बचा शहर में !

मोहब्बत आई, गई हुई
नफ़रत रुके जिगर में !

हमने करी वफ़ा पर
आए नहीं नज़र में !

अपना मक़ाम तय है
अब भी हैं वे सफ़र में !

ज़िंदगी देती नहीं कुछ
सीख देती है डगर में !

हम दर्द को लेते छुपा,
जी रहे सबके ज़हर में ! 



 

22 टिप्‍पणियां:

  1. अजमाते हैं हर विधा, मन में ना संतोष |
    प्रस्तुतियां लगभग मिली, सच सटीक निर्दोष |
    सच सटीक निर्दोष, शेर सब जबरदस्त हैं |
    चीर फाड़ में व्यस्त, भाव खा रहे मस्त हैं |
    रविकर को है गर्व, मित्र सच्चा जो पाते |
    समय काल आपात, मित्र को हैं अजमाते ||

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ...मगर ज़्यादा आजमाना ठीक है क्या ??

      हटाएं
    2. मित्र को आजमाने की जरुरत नहीं-
      वे अजमाए हुवे ही होते हैं -
      सादर

      हटाएं
  2. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बड़ी प्यारी गज़ल है त्रिवेदी जी, हम होते तो शायद यूँ लिखते

    हमने करी वफ़ा पर
    आये नहीं नज़र वे !
    हमने खिलाई कुल्फी
    देखे नहीं कभी वे !

    उत्तर देंहटाएं
  4. डॉ अरविन्द मिश्र का कमेन्ट अपेक्षित है , अन्यथा अधूरी रहेगी यह गज़ल :))

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह, छायी धुंध को बड़ा ही स्पष्ट बयां कर दिया।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया ग़ज़ल...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  7. शब्‍दों और भावों में डूबने से बचे रहना
    मित्रता से बढ़कर नहीं है कोई गहना

    उत्तर देंहटाएं
  8. उम्दा भाव के साथ अच्छी गजल,,,गजलकार बनने के लिए बधाई ,,,संतोष जी,,

    Recent post: गरीबी रेखा की खोज

    उत्तर देंहटाएं
  9. हम दर्द को लेते छुपा,
    जी रहे सबके ज़हर में !

    कि जी रहे किस भरम में !!

    उत्तर देंहटाएं
  10. हमने करी वफ़ा पर
    आए नहीं नज़र में !

    बहुत खूब ... फिर भी वफ़ा करते रहें ... कभी तो नज़रें करम होंगी ....
    हर शेर लाजवाब है ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. ज़िंदगी देती नहीं कुछ
    सीख देती है डगर में !

    एक एक शेर लाज़वाब है. बहुत सुंदर. शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं