19 अक्तूबर 2012

नई प्रार्थना !

हे दुर्गा  !
कभी उनका भी करो मर्दन
फाड़ दो छाती जो चौड़ी है दंभ से
पी रहे दिन-रात लहू हम सभी का
बनकर रक्तबीज
जो बढ़ रहे हर रोज़
क्या तुम भी इन्हें देखकर सहम गई हो ?

हे काली !
कभी आओ बन के कहर
कलियुग के असुरों पर ,
टूट पड़ो अचानक
भर लो अपना खप्पर
दिखा दो कि संज्ञाशून्य नहीं हो तुम
या किस प्रलय की प्रतीक्षा है ?

हे शंकर !
बजा दो डमरू
इन बहरे कानों पर
दिखा दो तांडव
कर दो रक्त-रंजित आसुरी-राज
मचा दो प्रलय
बेध दो त्रिशूल से
इनके दर्पयुक्त  माथे
बन जाओ शिव
या ऐसे ही मारे जायेंगे तुम्हारे भक्त ?

हे साईं  !
कभी उन पर दया मत करो
जो चढाते हैं तुम पर करोड़ों
बनाते हैं मोटा माल
और हड़पते हैं दूसरों का हिस्सा
अपना हाथ हटा लो
ऐसे न बांटो बख्शीश
तुम्हें देकर रिश्वत
वे पा रहे हैं अभयदान
तुम्हारा भक्त आज क्यों है सवाली ?

 

16 टिप्‍पणियां:

  1. यह नयी प्रार्थना कहाँ ? न जाने कितने लोगों के मन में ऐसी प्रार्थना सुगबुगा रही है ....

    काश इनमें से एक भी अवतार कोई प्रार्थना सुन ले .... बहुत सुंदर और सार्थक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. ye to jan-jan ka prarthana ban chuka hai........aapne bole diye aapka abhar.......


    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
  3. हम सबकी भी यही प्रार्थना है | इनमे से एक भी प्रार्थना ईश्वर सुन ले तो देश का कल्याण ही हो जाये |

    जवाब नहीं मिलता

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह भाई वाह
    मनोरथ पूर्ण हो ||

    उत्तर देंहटाएं
  5. निर्णय ले लो, घड़े भरने की प्रतीक्षा बहुत हो चुकी है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस प्रार्थना में ही जीवन का सत्य है
    http://bulletinofblog.blogspot.in/2012/10/blog-post_19.html

    उत्तर देंहटाएं
  7. इन सवालों का ज़वाब तो जिनसे पूछा है , उनके पास भी नहीं है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. अभी तो "सच्चे भक्तों" ने शोर मचा रखा है...
    अपनी अर्जी थोड़ा ठहर के लगाइए....अभी पुकार कोई सुनेगा नहीं.

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ओज है इस प्रार्थना में। आक्रांत मन की चीत्कार..आमीन।

    उत्तर देंहटाएं
  10. नव देवि आराधना,न मंत्रम न जंत्रं तदपि न जाने स्तुति महो

    उत्तर देंहटाएं
  11. ......ये देवी-देवता कुछ नहीं करेंगे ! जो भी कुछ करना है , हम-आपको ही करना होगा !

    उत्तर देंहटाएं
  12. बंदे न होगें जितने खुदा है खुदाई में
    किस-किस खुदा के सामने सिज्दा करे कोई,,,,

    RECENT POST : ऐ माता तेरे बेटे हम

    उत्तर देंहटाएं
  13. क्या खूब! अब तो भगवान को भी किसी और का इंतज़ार है लगता है..
    पता नहीं यह प्रार्थना सुनेंगे की नहीं..

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही अच्छी प्रार्थना है ....
    सुन्दर और सार्थक...
    जरुर पूरी हो यही कामना है....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं