14 अक्तूबर 2012

सवालों के जवाब !

सोचता हूँ जब भी उसके बारे में
आ जाते हैं नए सवाल,
जवाब ढूँढने के लिए फ़िर से
उसकी ही ओर ताकता हूँ |
उसके साथ मेरा
वैसे कोई बंधन नहीं है,
फ़िर भी न जाने
किस जोड़ ने हमें बाँधा हुआ है ?
ऐसा भी नहीं है
कि उसके सवालों के जवाब
नहीं हैं मेरे पास ,
पर कुछ सवालों को मैं
रखना चाहता हूँ अनुत्तरित |
ऐसे सवालों के उत्तर
समय के साथ
मिल जायेंगे उसे
और मुझे भी मेरा अपना |

18 टिप्‍पणियां:

  1. हर एक के लिये उन प्रश्नों के उत्तर अलग होते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. और जरूरी नहीं कि उन उत्तरों पर भरोसा किया जाये :(
      शुभकामनायें !

      हटाएं
  2. बढ़िया है |
    आभार सुन्दर -
    प्रस्तुति के लिए ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. या इलाही ये माज़रा क्या है ....
      बधाई ..

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. एक इन्तजार था कि कभी तुझे घर लायेगें,
      कल्पना न की थी कभी ऐसा जख्म पायेगें!
      बेवफा, देखना एक दिन हम जरूर याद आयेगें,
      ये झूठ,फरेब,के आँसू हम छुपा के मुस्कुरायेगें,,,,,,,

      MY RECENT POST: माँ,,,

      हटाएं
  5. सवाल जवाबों में ज़िन्दगी उलझ न जाए कहीं.....
    हाथ थाम के चल पड़ने में क्या हर्ज...
    :-)

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. ऐसे सवालों के उत्तर
    समय के साथ
    मिल जायेंगे उसे
    और मुझे भी मेरा अपना |
    ........गजब सवाल

    उत्तर देंहटाएं
  7. फिर तो शुभकामनायें बनती हैं . :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. निर्णय वाही ठीक है जिसमे सभी का हित हो इसलिए शायद कुछ प्रश्न अनुत्तरित हैं. सुंदर कविता संतोष जी.

    उत्तर देंहटाएं
  9. कल 14/10/2012 को आपकी यह खूबसूरत पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर रचना... http://www.kuldeepkikavita.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  11. मिल जायेंगे उसे
    और मुझे भी मेरा अपना |
    जापर जेकर सत्य सनेहू तेहिं ता मिलै न कछु संदेहू

    उत्तर देंहटाएं
  12. पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब,बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  13. सवालों को तलाश रहती जवाब की सदा , किन्तु जवाब का मिलना ...सवाल की नियति !!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं