25 जून 2011

बहुत दिनों के बाद !

बहुत दिनों के बाद
सुनी मैंने दिल की आवाज़
एक बेचैनी सी कैसी
बज रहे अन्दर वाले साज !

बहुत दिनों के बाद
अघाकर सुना सुगम संगीत
लगा कोई है मेरा भी
इक प्यारा-सा मनमीत !

बहुत दिनों के बाद
डर रहा मैं सपनों से
विश्वास नहीं होता
दूर होता हूँ अपनों से !


बहुत दिनों के बाद
मिले हैं जीवन के कुछ अर्थ
जी रहा था जो अब तक
क्या गवाँ दिया यूँ व्यर्थ ?

बहुत दिनों के बाद
लगा अब भी है कुछ शेष
मेरे आगामी जीवन में
आयेंगे प्यारे सन्देश !


विशेष: बाबा नागार्जुन से माफ़ी सहित ! उनकी कविता,'बहुत दिनों के बाद ' से प्रेरित !

23 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी कवितायें बहुत प्रभावित कर रही हैं, निश्चय ही प्यारे संदेश आने शेष हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत दिनों बाद पाई इस निधि को सजोये रहें, ताकि हरदिन साजो-संगीत में बितायें!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत दिनों बाद हम भी आ पाए आपके दरबार में !
    :-)


    जिंदगी में बहुत दिनों बाद का भी अपना एक अच्छा खासा हिस्सा होता है!.......नहीं ???

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत दिनों से नहीं सूनी है आवाज
    बाबा रामदेव पर जब से गिरी गाज
    .......हा हा हा

    पर आपकी आवाज अच्छी है और आपने भी सुनी और मैंने भी पढ़ी . मजा आया.

    उत्तर देंहटाएं
  5. एक बहुत अच्छी कविता पढ़वाने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कवितायें बहुत प्रभावित कर रही हैं। बढ़िया लिखा है। बहुत दिनों बाद हम भी आ पाए आपके दरबार में !

    उत्तर देंहटाएं
  7. .
    बहुत दिनों के बाद
    लगा अब भी है कुछ शेष
    एक सोद्देश्य और सकारात्मक सार्थक रचना प्रस्तुत करने के लिये अभार !

    लगता है, अभी थैली का मुँह ही खुला है... पूरी थैली तो अभी पलटी ही नहीं !

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर रचना लिखी है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप काफी अच्छा लिखते हैं....सुन्दर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत दिनों के बाद
    लगा अब भी है कुछ शेष
    मेरे आगामी जीवन में
    आयेंगे प्यारे सन्देश !

    सुखद और प्यारे संदेश आते रहें।
    शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. इसी लिए कहते है समय के साथ - साथ उचित ! फिर बहुत दिनों के बाद क्यों ? अतिसुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्रेरित होकर भी मौलिकता बरकरार है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत दिनों बाद ...क्यो जी । इत्ते दिनों की एबसैंटी ठीक नय है ..फ़र्लो मारते हैं क्या हो । बहुत ही कमाल रचा है आपने , प्रेरणा सही ली है आपने

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत दिनों के बाद
    मिले हैं जीवन के कुछ अर्थ
    जी रहा था जो अब तक
    क्या गवाँ दिया यूँ व्यर्थ ?

    jeevan abhi aage bhi hai...
    kuchh yaaden purani kuchh nai bantee chalee jayegi.....

    khubsoorat rachna.......

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत बढ़िया गीत है, सर जी. निवेदन है कि इसी प्रकार छंदबद्ध कविताएं पोस्ट करें.

    उत्तर देंहटाएं
  16. जल्द ही मेरा 'भरम' टूट भी गया...उस नाते यह शेर,

    वो आए एक खुशनुमा झोंके की तरह ,
    गए तो आँधियों की तरह,उजाड़कर मुझे

    उत्तर देंहटाएं
  17. very nice...
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - सम्पूर्ण प्रेम...(Complete Love)
    mere ek blog www.musiq.tk ke liye link exchange karna chahta hu, agar aap bhi interested ho to jaroor batiyega.. shukriya

    उत्तर देंहटाएं
  18. बाबा नागार्जुन से माफी काहे मांगते हैं, सर जी. आपकी यह कविता पढ़कर उन्हें भी बहुत ख़ुशी होती.

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत दिनों के बाद
    अघाकर सुना सुगम संगीत
    लगा कोई है मेरा भी
    इक प्यारा-सा मनमीत !

    आपकी रचना में बसी सरलता पसंद आई ! हार्दिक शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना ! उम्दा प्रस्तुती!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं