23 दिसंबर 2012

चलो दिल्ली !


 
 
चलो दिल्ली ,चलो जनपथ, जहाँ हुक्काम बहरे हैं
हवाओं में,फिजाओं में ,जहाँ संगीन पहरे हैं.
चलाओ गोलियाँ ! छलनी हमारी छातियाँ हो जांय ,
ये आतिश बुझ नहीं सकती, हमारे ज़ख्म गहरे हैं.

तुम्हारे चैन की अब, आखिरी शब आ गई  ,
हमारा आज बिगड़ा है ,मगर सपने सुनहरे हैं.

बढ़े क़दमों ! नहीं रुकना ,बदल जायेगा मौसम ये,
नया सूरज उघाड़ेगा ,अँधेरे में जो चेहरे हैं.

 

22 टिप्‍पणियां:

  1. पहले आखिरी लाइन कुछ यूँ थी,'नया सूरज निकलते ही,बड़े कमज़ोर कोहरे हैं."

    उत्तर देंहटाएं
  2. तुम्हारे चैन की ,अब आखिरी शब आ गई ,
    हमारा आज बिगड़ा पर, सपने सुनहरे हैं.

    बहुत खूब ... यही हौसला बरकरार रहे

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह, आज तो कवि ललकार उठा है ~

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़े क़दमों ! नहीं रुकना ,बदल जायेगा मौसम ये,
    नया सूरज उघाड़ेगा ,अँधेरे में जो चेहरे हैं.

    ....बहुत सशक्त ललकार..

    उत्तर देंहटाएं
  5. अगर गोलियाँ नेताओं को लगे तो बात बने।

    उत्तर देंहटाएं
  6. नया सूरज उघाड़ेगा,अँधेरे में जो चेहरे हैं.,,
    बहुत खूब,ललकार बरकरार रखे,,,,

    recent post : समाधान समस्याओं का,


    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (24-12-2012) के चर्चा मंच-११०३ (अगले बलात्कार की प्रतीक्षा) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    उत्तर देंहटाएं
  8. क्या जलवे हैं कवि के! एकदम क्रांतिकारी हो उठा!

    उत्तर देंहटाएं
  9. तुम्हारे चैन की अब, आखिरी शब आ गई है ,
    हमारा आज बिगड़ा ,मगर सपने सुनहरे हैं.


    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्रान्ति की ये मशाल जलती रहनी जरूरी है ... हालांकि सरकार दमन करना चाहती है अब ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. आज बड़ा कोहरा छाया है,
    शायद, कल का राज छिपाया है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. नया सूरज उघाड़ेगा ,अँधेरे में जो चेहरे हैं.
    .......सशक्त

    उत्तर देंहटाएं


  13. ♥(¯`'•.¸(¯`•*♥♥*•¯)¸.•'´¯)♥
    ♥नव वर्ष मंगबलमय हो !♥
    ♥(_¸.•'´(_•*♥♥*•_)`'• .¸_)♥




    चलो दिल्ली ,चलो जनपथ, जहाँ हुक्काम बहरे हैं
    हवाओं में,फिजाओं में ,जहाँ संगीन पहरे हैं

    चलाओ गोलियाँ ! छलनी हमारी छातियाँ हो जांय
    ये आतिश बुझ नहीं सकती, हमारे ज़ख्म गहरे हैं

    तुम्हारे चैन की अब, आखिरी शब आ गई
    हमारा आज बिगड़ा है ,मगर सपने सुनहरे हैं

    बढ़े क़दमों ! नहीं रुकना ,बदल जायेगा मौसम ये
    नया सूरज उघाड़ेगा ,अँधेरे में जो चेहरे हैं

    आऽऽहा हाऽऽऽ हऽऽऽ !
    वाऽह ! क्या तेवर हैं !

    अच्छा लिखा है
    आदरणीय संतोष त्रिवेदी जी !
    बहुत ओजपूर्ण रचना है ... रवानी से भरपूर !

    आज ऐसी रचनाओं की आवश्यकता है ।
    हर नागरिक को सजगता से अपना दायित्व निभाने का समय आ गया है...
    अब भी गफ़लत में रहे तो हम ही हमारी भावी पीढ़ियों के अपराधी होंगे ...

    उत्कृष्ट सामयिक रचना के लिए पुनः साधुवाद !


    # तुम्हारे चैन की अब, आखिरी शब आ गई ....... यहां देख लें , कोई शब्द आप भूले हैं ।


    नव वर्ष की शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार
    ◄▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼▲▼►

    उत्तर देंहटाएं
  14. अब तो सच में दिल्ली जाकर एक हुंकार भरने की ज़रुरत है...

    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं।।।

    उत्तर देंहटाएं
  15. तुम्हारे चैन की अब, आखिरी शब आ गई ,
    हमारा आज बिगड़ा है ,मगर सपने सुनहरे हैं.

    ...आज इसी ज़ज्बे की ज़रुरत है..नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  16. दिल्ली चलो अब एक होके
    अब सजा तो देनी है

    जो हो गई सो हो गई
    अब देर नही करनी है

    उत्तर देंहटाएं
  17. मंगलमय नव वर्ष हो, फैले धवल उजास ।
    आस पूर्ण होवें सभी, बढ़े आत्म-विश्वास ।

    बढ़े आत्म-विश्वास, रास सन तेरह आये ।
    शुभ शुभ हो हर घड़ी, जिन्दगी नित मुस्काये ।

    रविकर की कामना, चतुर्दिक प्रेम हर्ष हो ।
    सुख-शान्ति सौहार्द, मंगलमय नव वर्ष हो ।।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सराहनीय प्रस्तुति. आभार. बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह! क्या आक्रोश है!!.. देर से पढ़ पाने का अफसोस है।

    उत्तर देंहटाएं