24 मई 2011

तिहाड़ जेल लाइव !

राजा: आओ कनिमोझी स्वागत है!
कनि: हाँ,अब तो तेरे कलेजा में ठण्ड पड़ गयी होगी .
राजा: हमरे तो हाथ बंधे थे,केवल अकाउंट खुला था.
कनि : हे राजा,ई तूने ठीक नय किया है.
राजा : अब हमरा नाम भी भूल गई हो,मैं ए राजा हूँ .
कनि: तुमरा नाम तो 'टाइम' पर आया है,एक लाख सत्तर हज़ार करोड़ मा खाली दू सौ करोड़ हमरे नाम !
राजा: शुक्र मनाओ,हमरी वज़ह से ही 'फर्स्ट-क्लास' जेल मिली है !छोटी-मोटी रकम में तो 'टाइम' क्या 'टाइम्स ऑफ इंडिया' में भी न आ पाते !

इसी बीच फूलों का गुच्छा लेकर कनि के पप्पा आ जाते हैं ,राजा साइड में छुप जाते हैं !


ब्रेक के बाद ....

कनि बिटिया से मिल-मिला के जब उनके पप्पा चले गए तो राजा तिलमिला गवा !ओटरे से निकल के कनि से बूझै लगा:

राजा: ई आदमी केतना अहसानफरामोश निकला !हम इसके खातिर ससुर रिज़र्व बैंक बने थे और ऊ एक बार भी हमसे मिलने नय आवा.
कनि: लगता है तुम अब संठियाय गए हो !हमरे पप्पा अभी-अभी 'गद्दी' से उतरे हैं,उनको कुच्छौ नय सूझ रहा है.एकदम ललुयाय गये हैं.
राजा : अब ई लालू से उनकी कउनो बराबरी है का ?
कनि: हे राजा ,ऊ चारा खा के  ज़मीन  पर आये और हमरे पप्पा ,ई का कहत हैं टू जी-सूजी से !

अचानक तिहाड़ में बिजली गुल हो जाती है और उसके बाद आँखों देखा हाल तो कउनो उल्लू ही बताएगा !

14 टिप्‍पणियां:

  1. गजब !
    बड़ा धासूं व्यंग लिखा वह भी सामयिक !
    जय जय !

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्यों बेईमानों को तंग करते हो, अच्छा लिखा है,

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये तो होना ही था, जहाँ चाह वहाँ राह।

    उत्तर देंहटाएं
  4. चारा जमीं पर और अब सूजी पाक रही है ! जबरदस्त

    उत्तर देंहटाएं
  5. तीखा व्यंग्य लिखा है।
    बहुत बढ़िया।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जबरदस्त व्यंग । बहुत बढ़िया लिखा है संतोष जी। सटीक !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया और शानदार रूप से प्रस्तुत किया है आपने! ज़बरदस्त व्यंग्य! प्रशंग्सनीय प्रस्तुती!
    मेरे ब्लोगों पर आपका स्वागत है!

    उत्तर देंहटाएं
  8. कुछ फेसबुकिया टिप्पणी:

    अविनाश वाचस्पति अन्नाभाई :दिल्‍ली की लाइट का भी यही हाल है,तिहाड़ वैसे भी दिलवालों की ही जेल है !

    अजय कुमार झा : अरे मार के भगाइए उसके पापा को और ई कथा को जारी रखिए जी ...साला एतना जल्दी ई पापा को आना ही नय चाहिए था ...गलत आ गए हैं ...साला कहानी अभी ठीक से जमने भी नहीं पाया था कि आ गए ..छोडिए उनको इग्नोर करिए और .कथा आगे बढाइए ..भक्त हाथ जोड के बैठे हैं!

    संतोष त्रिवेदी Santosh Trivedi आपकी फरमाइश पूरी कर दी है,दूसरी व अंतिम किश्त जारी...

    अविनाश वाचस्पति अन्नाभाई : अजय जी, हम तो अपना बैंक एकाउंट खोल के बैठे हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बढिया, क्या बात है..

    उत्तर देंहटाएं