2 अप्रैल 2012

तोता और कौवा !

नीले आसमान में 
उड़ते हुए तोते को 
कौवे ने टोंका,
तुम इस तरह आसमान में
अतिक्रमण नहीं कर सकते,
उड़ नहीं सकते !
तुम तभी तक महफूज़ हो
जब तलक उस पिंजरे में,
अपने दायरे में महदूद हो !
खुले आसमान और 
धरती के आँचल में 
अगर तुमने हरकत की ज़रा-सी,
तो वो छोटी कटोरी,
आम की फाँके
और कच्ची शफ़ड़ी भी
भूल जाओगे,
यहीं हमारे सामने 
केवल छटपटाओगे ! 
इसलिए अपना हिस्सा लो
मौके को समझो 
और उड़ो मत !
बाहर का मौसम 
सिर्फ़ मेरे मुफ़ीद है,
तुम्हारे लिए हमारा 
ख़ास इंतजाम  है,
हम चुने हुए हैं 
इसलिए बेख़ौफ़ चुनते हैं,
तू घोंसले में रह 
वही तेरा मक़ाम है !

29 टिप्‍पणियां:

  1. हम चुने हुए हैं
    इसलिए बेख़ौफ़ चुनते हैं,
    तू घोंसले में रह
    वही तेरा मक़ाम है !
    सुंदर भाव अभिव्यक्ति,बेहतरीन पोस्ट,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: मै तेरा घर बसाने आई हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर से ये चिन्ह दो, खींच गए इक चित्र ।
    रंगबाज की जीत है, नहीं राम जी मित्र ।


    नहीं राम जी मित्र, रटत यह जिभ्या हर-दिन ।
    पिंजरे में ही काट, वक्त ये हर-पल गिन गिन ।

    कौआ सत्ताधीश, रखे अति-हिंसक अंतर ।
    रटे राम का नाम, रहेगा बेशक सुन्दर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  3. चलिए किसी को तो उसकी औकात बताई -भले ही बिचारा पक्षी है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह....................

    सबका अपना अपना अधिकार क्षेत्र है...वजह चाहे जो हो...

    बढ़िया लेखन.
    बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्टस पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्‍पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  6. वोट हड़पिए और वोट दानियों की प्रतीक कविता। कौवे कौवे ही रहेंगे और तोते तोते ही। आपस में बदलना पॉसीबल नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. गनीमत है आपका कौवा तोते को बस टोक रहा है
    मेरे यहां तो रोज कौवा तोते को बस ठोक रहा है।

    सुंदर अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  8. हम चुने हुए हैं
    इसलिए बेख़ौफ़ चुनते हैं,
    तू घोंसले में रह
    वही तेरा मक़ाम है !

    चुने हुये हैं तभी अपना अधिकार समझ रहे हैं ॥कर्तव्य क्या है नहीं पता ... बढ़िया व्यंग

    उत्तर देंहटाएं
  9. तोते और कौवे के माध्यम से बहुत कुछ बता दिया आपने ... कहाँ चलना और कहाँ उड़ना चाहिए ये भी समझा दिया ... और तोते को खबरदार भी कर दिया ... बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. हम चुने हुए हैं
    इसलिए बेख़ौफ़ चुनते हैं...
    बेहतरीन रचना....
    सादर।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बुधवारीय चर्चा मंच पर है
      आप की उत्कृष्ट प्रस्तुति ।

      charchamanch.blogspot.com

      हटाएं
  11. उत्तर
    1. कौआ शब्द उपयुक्त है,भूलवश कौवा हो गया,आभार,इसी बहाने याद दिलाने का !

      हटाएं
  12. अनुपम भाव संयोजन के साथ उत्‍कृष्‍ट लेखन ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. "काले" परिंदों को ही उड़ने का हक है.. "हरियाली" को ग्रहण लग गया है, माट्साब!

    उत्तर देंहटाएं
  14. उत्‍कृष्‍ट, अनुपम भाव|

    उत्तर देंहटाएं
  15. ....क्या जमाना आ गया है , अब कौए सिखाएंगे कि बेचारे तोते कैसे रहें !

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुन्दर रचना. हमारे मोहल्ले में एक्को कौआ नहीं था लेकिन अब उनकी ही तूती बोलती है.

    उत्तर देंहटाएं