19 जुलाई 2011

मेरा गाँव !

याद बहुत आते हैं हमको महुआ, गूलर, आम !
गलियारे,पगडंडी,बरगद,जीवन के थे नाम !!  

गौरैया आ पास बैठती,कौआ लाता नित पैग़ाम !
खुला हुआ दरवाजा घर का , रहता आठों याम!!

रोज सबेरे सूरज उगता,अस्त होय हर शाम !
छाया मिलती नीम की ,नहीं करारा घाम !!

सुबह-शाम पनघट में आतीं, चपला और ललाम!
दूर बैठ हम देखा करते दिल को दिए लगाम !!

कहाँ गाँव के लोग गए,खेत और खलिहान !
काका,अजिया,नानी, छूट गए दालान  !!

चिट्ठी आती एक तो, पढ़ते दस-दस बार !
खानापूरी बन गया शहरी पत्राचार !!

ना जाने किस जनम में ,होगा ऐसा प्यार!
दुःख में होते साथ सब,कई-कई मनुहार !!

11 टिप्‍पणियां:

  1. अब गांव जायेंगे तो भागकर वापस आयेंगे। :)

    बढिया लिखा है। :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब गाँव सिर्फ शब्दों में रह गया है .....! बहुत याद आता है मुझे भी मेरा गाँव ....हर पंक्ति में नया भाव भर दिया है आपने ....आपका आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. हाय... हमारा भी कोई गांव होता तो हम भी उसे याद करके थोड़ा भावुक हो लेते!:(

    उत्तर देंहटाएं
  4. गाँव की याद तो मुझे भी बहुत आती है ........................अब तो यह सब एक सुन्दर सपना सा बनके रह गया है .भावुक करती हुइ रचना

    उत्तर देंहटाएं
  5. गाँव का वह खुलापन और समय की आवारगी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपने गांव की बात ही निराली है...
    बहुत प्यारी रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत बढ़िया , गाँव की यादें ताज़ा कर दिया आपने !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर भाव, गांव की बात ही निराली होती है,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत भावभीनी प्रस्तुति की है आपने.
    गांव का मोहक अहसास कराती हुई.
    सुन्दर शब्द दिल को छूते हैं.
    अनुपम प्रस्तुति के लिए आभार.

    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. गाँव की मोहकता को खींचा है आपने, यह दोहात्मकता बढ़ियां लगी!

    उत्तर देंहटाएं