4 अक्तूबर 2010

ग़ज़ल

हर   जगह  क्यूँ  आप  नज़र  आते  हैं ?
ख्वाबों में भी  साफ़ नजर आते हैं!

दिल की गहराइयों से,तुम्हें चाहा हमने,
फिर भी अजनबी से आप गुजर जाते हैं.

नज़र-ए-इनायत तो कभी हम पे' करो,
सुना है,मुजलिमों पे आप रहम खाते हैं.

ये प्यार का पैग़ाम,शायद पहुँच सके,
इस गली से यूँ,चुपचाप निकल जाते हैं.

हाल-ए-दिल मेरा ,कोई सुना दे "चंचल",
मैं हूँ तनहा,अकेले भी आप जिए जाते हैं!

रचना काल: २१/०६/१९९०
दल्ली-राजहरा (छत्तीसगढ़)

2 टिप्‍पणियां:

  1. @प्रवीण पाण्डेय कुछ ज़्यादा ही भाव दे दिया है.यह ग़ज़ल बीस साल पहले की है,जब बच्चे(कच्चे)थे! हौसला-अफज़ाई का शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं