15 अगस्त 2008

आज़ादी और हम !

आज़ादी के बाद से जनता है बेहाल,

नेता खाएँ  गुलगुले, करके हमें हलाल !